श्रमिक स्पेशल ट्रेन, Shramik Special Train, special train for migrants, Railway , bihari migrants

Special Train: आज 24 स्पेशल ट्रेन से 28 हजार मजदूर बिहार पहुचेंगे, जानिए टाइम टेबल

स्पेशल ट्रेन से लगातार लोग हजारों की संख्या में दूसरे रज्यों से बिहार वापस लौट रहे हैं| आज 24 श्रमिक स्पेशल ट्रेन बिहार पहुँच रही है| जिससे विभिन्न राज्यों में फंसे 28 हजार 467 लोग पहुचेंगे| किसी एक दिन में आने वाली विशेष ट्रेनों की यह अब-तक की सबसे बड़ी संख्या होगी। सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के सचिव अनुपम कुमार ने बुधवार को यह जानकारी प्रेस कांफ्रेंस में दी।

किन-किन राज्यों से आ रही ट्रेन?

राज्य                  ट्रेनों की संख्या

गुजरात                    08

महाराष्ट्र                   05

तेलंगाना                   05

राजस्थान                  03

आंध्रप्रदेश                  01

हरियाणा                    01

केरल                         01

कैसे मिलेगा टिकेट?– यहाँ क्लिक कर जानें 

कहाँ से कहाँ तक?

1. पनवेल से पटना- 2.10 PM
2. पनवेल से दानापुर 5.10 PM

3. अलाप्पुझा से बेतिया- 4 PM
4. सूरत से बरौनी- 3.30 AM

5. कोटा से बिहारशरीफ- 2.30 PM
6. कोटा से मोतिहारी- 5 AM
7. बीबीनगर से गया- 4 AM
8. लिंगमपल्ली से दरभंगा- 11.50 AM
9. घाटकेसर से भागलपुर- 8.10 AM
10. हिसार से कटिहार- 2 PM
11. उदयपुर से हाजीपुर- 2 PM
12. चेरियापल्ली से सीतामढ़ी- 9 AM
13. कुन्नुर से बरौनी- 2 PM
14. लिंगमपल्ली से भागलपुर- 3.30 PM
15. सूरत से छपरा- 6.30 AM
16. वर्धा से बरौनी- 11.40 AM
17. नागपुर से मुजफ्फरपुर- 10 AM
18. नंदूरबार से अररिया- 12.30 PM
19. नंदूरबार से पूर्णिया- 8.45 AM
20. सूरत से पूर्णिया- 2.05 PM
21. विरामगम से बेतिया- 1.40 PM
22. वडोदरा से कटिहार- 3.35 PM
23. विरामगम से गया – 5.30 PM

बिहार के किन जिलों में पहुंचेगी ट्रेने?

बरौनी, छपरा, पूर्णिया, गया, मुजफ्फरपुर, कटिहार, पूर्णिया, बेतिया, बरौनी, अररिया, दानापुर, मोतिहारी, हाजीपुर, बिहारशरीफ, सीतामढ़ी और भागलपुर स्टेशन पहुंचेंगी।

स्पेशल ट्रेन से बिहार आने का यह सिलसिला चलता रहेगा| सभी जिला प्रशासन ने उनके स्क्रीनिंग और 21 दिनों तक क्वारंटिन करने के किये प्रखंड स्तर पर व्यवस्था कर रखा है| जहाँ उनके खाने-पीने कि अच्छी व्यवस्था है| 21 दिन कैंप ने गुज़ारने के बाद सरकार उन्हें रेल के किराया के साथ 500 रूपये और अतिरिक्त दी जाएगी| स्पेशल ट्रेन से बिहार आने सम्बन्धी सभी जानकारी के लिए – यहाँ क्लिक करें

कौन देगा किराया?

बिहार के मुख्यमंत्री ने घोषण किया है कि बिहार के मजदूरों को ट्रेन का किराया देने कि जरुरत नहीं है| बिहार सरकार मजदूरों का किराया भरेगी| मगर उसके लिए कुछ शर्त है| मिल रही जानकारी के अनुसार मजदूरों को पहले खुद ही किराया देना होगा बाद में 21 दिनों के क्वारंटीन पीरियड के बीत जाने के बादही मजदूरों को किराये कि राशी दी जाएगी| इसबारे में विस्तार से पढने के लिए – यहाँ क्लिक करें

Nitish kumar to migrants, Special train to Bihar, Schedule of special train for migrantsa, Schedule of shramik Special Train

ऐसे देगी बिहार सरकार गरीब मजदूरों को पैसा, ये रही जानकारी

राज्य के बहार फसे देहारी मजदूरों को घर लाने का सिलसिला शुरू हो चुका है| हर रोज लगभग 10 स्पेशल ट्रेने मजदूरों को लेकर बिहार पहुँच रही है| श्रमिक स्पेशल ट्रेन से बिहार आ रहे मजदूरों को ट्रेन का किराया देने पर सियासी बवाल खड़ा हो गया| शुरुवात में मजदूरों से ही ट्रेन का किराया लेने कि बात हो रही थी मगर विपक्ष के आक्रामक हमले के बाद सरकार ने किराया देने का ऐलान कर दिया|

बिहार के मुख्यमंत्री ने घोषण किया है कि बिहार के मजदूरों को ट्रेन का किराया देने कि जरुरत नहीं है| बिहार सरकार मजदूरों का किराया भरेगी| मगर उसके लिए कुछ शर्त है| मिल रही जानकारी के अनुसार मजदूरों को पहले खुद ही किराया देना होगा बाद में 21 दिनों के क्वारंटीन पीरियड के बीत जाने के बादही मजदूरों को किराये कि राशी दी जाएगी|


यह भी पढ़ें: आपको कैसे मिलेगा बिहार आने के लिए स्पेशल ट्रेन का टिकट?


ट्रेन के किराये के अवाला भी जब वे क्वारंटीन सेंटर से वापस घर जाएंगे तो उन्हें आने जाने के खर्च के साथ अलग से पांच सौ रुपये भी दिए जाएंगे।

विपक्ष का है दवाब

राजद के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव के नेतृत्व में बिहार का विपक्ष नितीश सरकार पर लगातार हमलावर है| तेजस्वी लगातार मजदूरों और छात्रों को बिहार वापस लाने की मांग करते आये हैं| उन्होंने यहाँ तक सरकार को कह दिया था कि अगर सरकार के पास पैसे नहीं है तो हा, देंगे बिहार सरकार को ट्रेन और बसों का किराया|

सोमबार को तेजस्वी ने भी फेसबुक पर लाइव आकर नितीश कुमार को घेरा| तेजस्वी ने कहा कि ट्रेन का किराया 21 दिन बाद देने से क्या फायदा| मजदूरों के पास पैसा नहीं है, वो कैसे पहले ट्रेन का किराया देंगे| सरकार को पहले ही मजदूरों को ट्रेन का किराया दे देना चाहिए|


ये भी पढ़े: यहाँ करें ट्रेन से बिहार आने के लिए आवेदन


क्या है क्वारनटाइन कैंप की व्यवस्था?

ट्रेन से बिहार आने के बाद लोगों का स्वास्थ जाँच करवाया जाता है| उनकी स्क्रीनिंग के बाद उन्हें अपने जिले के क्वारनटाइन कैंप भेज दिया जाता है| प्रधान सचिव के अनुसार अभी-तक 2450 क्वारनटाइन कैंप तैयार कर लिए गए हैं। अभी इन कैंपों में 8968 लोग रह रहे हैं। इनकी क्षमता बढ़ाई जा रही है।

कैम्प में अभी स्टील के वर्तन में खाना दिया जा रहा है| तीन टाइम खाने के साथ लोगों को पीने के लिए दूध भी दे रही है| साबुन, तेल, कपड़े आदि भी उन्हें उपलब्ध कराए गए हैं। कैंपों में सीसीटीवी कैमरे भी लगाए जा रहे हैं।