बिहार की प्रीति को मिला बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन द्वारा प्रतिष्ठित विलियम एच फोगे ग्लोबल हेल्थ अवार्ड

कोरोना महामारी जैसे संकट से लडने के लिए पब्लिक हेल्थ सिस्टम को मजबूत करना इस समय की सबसे बड़ी जरूरत है। इसके लिए जरूरी है इस क्षेत्र में नेतृत्व प्रदान करने के लिए युवाओं को विश्वस्तरीय शिक्षा और ट्रेनिंग मुहैया कराया जाए और उनके विशेषज्ञता का उपयोग जनहित में किया जाए।

इसी क्रम में बिहार की प्रीति प्रियदर्शनी को अमेरिका के एमोरी विश्वविद्यालय से पब्लिक हेल्थ में मास्टर करने के लिए बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन द्वारा प्रतिष्ठित विलियम एच फोगे ग्लोबल हेल्थ अवार्ड दिया गया है।

बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन द्वारा स्थापित, विलियम एच फोगे ग्लोबलहेल्थ अवार्ड एक पूर्ण ट्यूशन छात्रवृत्ति है जो विकासशील देशों में सार्वजनिक स्वास्थ्य की उन्नति के लिए काम करने वाले प्रतिबद्ध छात्रों कोप्रदान की जाती है। प्रियदर्शनी ने अंतर्राष्ट्रीय संगठन डेक्सटेरिटी ग्लोबल की मदद से यह उपलब्धि हासिल की।

डेक्सटेरिटी ग्लोबल शिक्षा और नेतृत्व के क्षेत्र में काम करने वाली अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित संगठन है जिसकी स्थापना बिहार के सामजिक उद्यमी शरद सागर ने वर्ष 2008 में की। यह संगठन 65 लाख से अधिक छात्र-छात्राओं को शैक्षणिक अवसरों से जोड़ता है।

एमोरी विश्वविद्यालय के बारे में

1863 में स्थापित, एमोरी विश्वविद्यालय अमेरिका के सबसे पुराने और सबसे प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में से एक है। एमोरी की स्वास्थ्य सेवा जॉर्जिया राज्य में सबसे बड़ी स्वास्थ्य सेवा प्रणाली है और इसके पूर्व छात्रों में 2 नोबेल शांति पुरस्कार विजेता, एक अमेरिकी उपराष्ट्रपति, एक अमेरिकन सुप्रीम कोर्ट के न्यायधीश और 6 पुलित्जर पुरस्कार विजेता शामिल हैं।

छात्रवृत्ति का विवरण

बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन द्वारा संस्थापित यह अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार हर साल एक या दो सार्वजनिक स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को दिया जाता है।

प्रियदर्शनी को एमोरी विश्वविद्यालय के रोलिंस स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ की ओर से पुरस्कार पत्र मिला। डीन डेब मैकरलैंड और डीन कारा रॉबिन्सन ने प्रियदर्शिनी को पुरस्कार पत्र में कहा, “हमें यह बताते हुए प्रसन्नता हो रही है कि आपको रोलिंस स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के संकाय द्वारा विलियम एच फोगे ग्लोबल हेल्थ अवार्ड से सम्मानित किया गया है।”

यह पुरस्कार बिल और मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन द्वारा सार्वजनिक स्वास्थ्य के क्षेत्र में डॉ विलियम एच फोगे के विशाल योगदान के सम्मान में स्थापित किया गया था। डॉ फोगे एक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्ध चिकित्सक, महामारी विशेषज्ञ और लेखक हैं जिन्होंने चेचक जैसी जानलेवा बीमारी के उन्मूलन में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। उन्होंने कई प्रतिष्ठित सार्वजनिक स्वास्थ्य भूमिकाएँ भी निभाई हैं। डॉ विलियम, सेंटर फॉर डिसीज़ कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) और कार्टर सेंटर के ग्लोबल हेल्थ के निर्देशक रहे हैं। बिल गेट्स ने डॉ फोगे के बारे में कहा है की डॉ फोगे, “एक ऐसे व्यक्ति हैं जिन्होंने दूसरों को एक लम्बा और स्वस्थ जीवन देने में अपना जीवन समर्पित कर दिया है।”

प्रियदर्शनी को पुरस्कार पत्र में कहा गया है कि एमोरी विश्वविद्यालय में, “आप उन कौशल और ज्ञान को विकसित करेंगे जो आपको सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रयासों का नेतृत्व करने में मदद करें”।

डेक्सटेरिटी ग्लोबल का सहयोग

11 दिसंबर को, डेक्सटेरिटी ग्लोबल ने घोषणा की कि वह 2020 से 20 प्रेरक क्षणों का प्रदर्शन करेंगे जिसमें डेक्सटेरिटी एलुमनाई के काम कीविशेषता होगी। प्रियदर्शनी”20 मोमेंट्स ऑफ़ डेक्सटेरिटी” अभियान के अंतर्गत 26 दिसंबर को चित्रित की गयीं।

इससे पहले, प्रियदर्शनी ने कुम्भलगढ़, राजस्थान और बिहार और झारखंड राज्यों में फ्रंट-लाइन स्वास्थ्य कार्यकर्ता के रूप में काम किया है।2018 में, उन्हें भारत के “एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट्स” में सेवा देने के लिए 135 युवा नेताओं के बीच गृह मंत्रालय, भारत सरकार और NITI Aayog द्वारा चुना गया था। उन्होंने झारखंड के हजारीबाग और लातेहार जिलों के जिला कलेक्ट्रेट के साथ सीधे काम किया। उन्होंने झारखंड के लातेहार जिले में कोरोना टास्क फोर्स का भी नेतृत्व किया।

प्रियदर्शनी ने यह पुरस्कार डेक्सटेरिटी ग्लोबल की मदद से प्राप्त किया, जो शिक्षा और नेतृत्व के क्षेत्र में काम करने वाली अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित संगठन है।

डेक्सटेरिटी ग्लोबल के पूर्व छात्रों को दुनिया भर के शीर्ष विश्वविद्यालयों में से 50 करोड़ से अधिक की छात्रवृत्ति प्राप्त हुए हैं। 2008 में, डेक्सटेरिटी ग्लोबल की स्थापना सामाजिक उद्यमी शरद विवेक सागर ने की थी।

प्रियदर्शनी का कथन

चार साल पहले, मैंने बिल और मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के काम और दृष्टिकोण से प्रेरित होकर भारत के विभिन्न भागों  में सार्वजनिक स्वास्थ्य में काम करना शुरू कर दिया। और आज, बिल और मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन द्वारा प्रतिष्ठित विलियम एच फोगे पुरस्कार प्राप्त करना मेरे लिए प्रेरणा और सम्मान की बात है।

गृह मंत्रालय, भारत सरकार के लिए काम करते हुए, मुझे झारखंड और राजस्थान के ग्रामीण इलाकों में अल्प-विस्थापित समुदायों की सेवा करने का मौका मिला।

डेक्सटेरिटी टू कॉलेज के द्वारा, मैंने सार्वजनिक सेवा के महत्व को पहचाना और समझा कि इसका उपयोग 21 वीं सदी की समस्याओं को हल करने के लिए कैसे किया जा सकता है।

मैं एमोरी की शिक्षा का उपयोग अपने देश की सेवा करने के लिए करना चाहता हूं और देश भर में अल्प विकसित समुदायों में से सबसे चुनौतीपूर्ण स्वास्थ्य समस्याओं के उन्मूलन के लिए निवारक उपायों पर ध्यान केंद्रित करना चाहती हूं।

डेक्सटेरिटी ग्लोबल के संस्थापक शरद सागर का कथन

डेक्सटेरिटी ग्लोबल के संस्थापक और सीईओ शरद विवेक सागर ने कहा, “मुझे बहुत खुशी है कि प्रीति को बिल और मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के तरफ़ से यह प्रतिष्ठित छात्रवृत्ति मिली है। डेक्सटेरिटी ग्लोबल के पूर्व छात्रों ने सभी क्षेत्रों में  – शिक्षा से लेकर स्वास्थ्य तक – सार्वजनिक सेवा के प्रयासों का नेतृत्व करना जारी रखा है और प्रीति इस बात कि एक और उदाहरण हैं कि कैसे डेक्सटेरिटी के सेवक नेतृत्व से प्रभावित प्रीति जैसे लोग देश और दुनिया के भविष्य को आकार देने में मदद कर रहे हैं।

प्रीति ने भारत सरकार के गृह मंत्रालय में अपने काम के माध्यम से राजस्थान और झारखंड जैसे राज्यों में स्थानीय समुदायों की सेवा जारी रखी थी। पब्लिक हेल्थ के क्षेत्र में प्रीति के अविश्वसनीय योगदान को पहचानने के लिए मैं बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन का भी धन्यवाद करता हूँ। कोरोना संकट ने हमें सार्वजनिक स्वास्थ्य और स्वास्थ्य व्यवस्था की बुनियादी ढांचे को मजबूत रखने का महत्व दिखाया है। मुझे यकीन है कि निकट भविष्य में प्रीति के योगदान के कारण भारत और भी ज़्यादा सुरक्षित और स्वस्थ देश बनेगा।