चंद्रबाबू नायडू के एनडीए से अलग होने के बाद, बिहार को विशेष राज्य के दर्जे पर नीतीश ने तोड़ी चुप्पी

आंध्र प्रदेश को वेशेष राज्य का दर्जा नहीं देने के मुद्दे पर राज्य में सत्ताधारी पार्टी टीडीपी द्वारा एनडीए छोड़े जाने के बाद पहली बार बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार को विशेष राज्य के मुद्दे पर अपनी छुपी तोड़ी है|

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि वो इस बात को एक दिन के लिए भी नहीं भूले हैं कि बिहार को विशेष राज्य का दर्जा मिले, वो लगातार इस पर चर्चा करते रहते हैं| उन्होंने कहा कि हम इस मांग पर तब तक कायम रहेंगे जब तक कि बिहार को इसका विशेष दर्जा मिल नहीं जाता| 

कुछ लोग इस मुद्दे को रोज उछाल रहे हैं| लेकिन, हम इस मुद्दे पर चुप हैं| हम हर रोज इसी मुद्दे पर बात नहीं करना चाहते हैं|

गौरतलब है कि आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने के लिए नीतीश कुमार को चंद्रबाबू नायडू बनने की सलाह दी थी और कहा था कि वो भी इस मुद्दे पर एनडीए से बाहर आ जाएं|

बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिये जाने को लेकर नीतीश कुमार ने केंद्र पर बनाया दबाव

वर्ष 2005 में नीतीश कुमार ने विशेष राज्य का दर्जा दिये जाने को लेकर तत्कालीन प्रधानमंत्री को भेजा मेमोरंडम

बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिये जाने के लिए बिहार विधानसभा से सर्वसम्मति से पास कराया प्रस्ताव

17 मार्च, 2013 को दिल्ली के रामलीला मैदान में की अधिकार रैली

केंद्र सरकार को सौंपे बिहार के 1.25 करोड़ लोगों के हस्ताक्षरयुक्त आवेदन पत्र

 

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: