Cancer Village of Bihar, saharsa, sattarkatiya Village, Bihar, Health of Bihar, Healthy India, WHO, Health Insurgence

Cancer Village of Bihar: सत्तरकटैया गांव में कैंसर से एक और मौत, मरने वालों की संख्या 50 से अधिक पहुंची

सहरसा, सत्तरकटैया के सहरवा गांव में कैंसर (Cancer Village) के कारण पिछले 2 साल में 50 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है और लगभग उतने ही मरीज अभी वर्तमान में भी कैंसर से पीड़ित हैं। स्मिता देवी जिनकी उम्र मात्र 28 वर्ष थी, कल उनकी मौत ब्रेन कैंसर की वजह से हो गई। वे अपने पीछे दो बच्चों को छोड़ गई। सत्तरकटैया (Sattarkatiya Village) में पिछले कुछ सालों में हरेक कुछ दिनों पर कैंसर की वजह से किसी न किसी की मौत हो रही है। अभी वर्तमान में भी करीब 50 के करीब मरीज हैं, आईजीआईएमएस (IGIM) की टीम ने एक दिन में करीब 60 लोगों का टेस्ट किया जिसमें से करीब 35 लोग कैंसर के प्रारम्भिक स्टेज में पाए गए। ब्रेन कैंसर, लीवर कैंसर, लंग कैंसर, थ्रोट कैंसर, यूट्रस कैंसर…जिस कैंसर का भी नाम सुने है, हरेक कैंसर का मरीज गांव में है।

एक गांव के पास ही इतने मरीज कैंसर के, सरकार को इसकी व्यापक जांच करनी चाहिए थी और कारणों का पता करना चाहिए था लेकिन सरकार जैसे सो रही है। आईजीआईएमएस की टीम के जांच में जो 35 लोग प्रारम्भिक स्टेज में पाए गए थे कम से कम उनके इलाज की तो व्यवस्था होती, लेकिन उनको भी पता नहीं किसके भरोसे छोड़ दिया गया है। लोग तिल तिलकर मरने को मजबूर हैं। गरीबी में लोग ईलाज के लिए घर – घरघरारी बेचकर, कर्जा आदि लेकर दिल्ली मुंबई जाने को मजबूर हैं। पीड़ित अधिकांश मरीज अत्यंत गरीब परिवारों से हैं, उनमें से अधिकांश लोगों का बीपीएल कार्ड तक नहीं बना है, आयुष्मान योजना लाभ या राष्ट्रीय वा राजकीय आरोग्य निधि से मदद की बात बहुत दूर की है। कम से कम 10 लोग तो ऐसे हैं जो पीड़ित तो हैं कैंसर से लेकिन ईलाज के लिए पैसा न हो पाने की वजह से बिना ईलाज के बस यूं समझ लीजिए की तिल तिलकर मर रहे हैं। आयुष्मान योजना जैसी योजना जिसका प्रचार होता है 5 लाख तक की मेडिकल सहायता बताकर, उसका सच ये है की उससे सिर्फ पटना और दिल्ली, मुंबई जाकर ईलाज हो पाता है…उसमें भी 5 लाख छोड़िए, कुछ हजार में मदद मिलती है। एक कैंसर पीड़ित महिला आयुष्मान कार्ड लेकर पटना गई ईलाज करवाने, अस्पताल ने बताया की इससे 17000 रुपए का खर्च मिलेगा…12000 का अस्पताल ने जांच कर दिया और 5000 रुपए से ईलाज। कैंसर का इलाज़ 5000 रुपए से, महिला वापस गांव आई और कुछ दिनों में उसकी मौत हो गई।

स्थानीय पत्रकारों और लोगों के बारंबार प्रयास के बावजूद सरकार ने सिर्फ एक बार आईजीआईएमएस की टीम जांच के लिए भेजी है। पीएचईडी की टीम जल परीक्षण के बाद उसमें आर्सेनिक और आइरन होने से इंकार कर चुकी है। ये गांव इस समस्या से लगातार जूझ रहा है और सरकार द्वारा मदद के नाम पर उपेक्षित है। जरूरी है की बिहार स्वास्थ्य मंत्रालय इसे एक स्पेशल केस की तरह ट्रीट करे। कैंसर के कारणों की जांच के लिए एक स्पेशल रीसर्च टीम, स्थानीय अस्पताल में कैंसर स्पेशलिस्ट मेडिकल टीम और ईलाज के लिए सरकारी मेडिकल योजनाओं से आर्थिक मदद…ये तीन चीजें नितांत और अर्जेंटली जरूरत है। सरकारी स्तर पर जो हो सकता है उसके लिए संवाद स्थापित करने की शुरुआत हो चुकी है लेकिन मुझे लगता है इसमें गैरसरकारी प्रयास की भी जरूरत है। सबसे पहले जरूरत है कैंसर के कारणों के ऊपर रिसर्च की।

– आदित्य झा

दर्जी का काम कर बेटी को पढाया, बेटी बनी बिहार टॉपर…

 जब टूटने लगे हौसले तो बस ये याद रखना,
बिना मेहनत के हासिल तख्तो ताज नहीं होते,
ढूँढ़ ही लेते है अंधेरों में मंजिल अपनी,
जुगनू कभी रौशनी के मोहताज़ नहीं होते…..!

इस पंक्ति को सच कर दिखाया है बिहार के सहरसा जिले की एक बेटी ने। दुनिया को बता दिया की जैसे जूगनू को अंधरों में अपनी मंजिल खोजने के लिए लिए रौशनी की जरूरत नहीं होती उसी तरह काबलियत किसी संसाधन का मोहताज नहीं होता।

 

सहरसा जिले के बख्तियारपुर बस्ती निवासी मो रब्बा की बेटी तैयब्बा प्रवीण ने इंटर कला की परीक्षा में सूबे में चौथा स्थान लाकर सहरसा जिला ही नहीं बल्कि पूरे कोसी का मान बढ़ाया है.

दर्जी का काम करने वाले पिता और  मां को भी एक बेटी पर गर्व करने का ऐसा अवसर दे दिया है जिसे जानकर लाखों वैसे युवा प्रेरणा ले सकते हैं जो अपनी विपरीत परिस्थियों को कोस कर संघर्ष पथ पर बिना मंजिल तय किए ही हार मान लेते हैं.

 

पिता दिल्ली में दर्जी का काम करते हैं तो मां सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडलीय अस्पताल में आशा कार्यकर्ता है. साधारण परिवार में बढ़ी और पढ़ी प्रवीण ने बता दिया आँखों में सपना हो,  उसे पाने की चाहत हो और उसके लिए जुनून हो तो सफलता आपकी कदम चूमेगी।

 

 

बचपन से मेधावी रही तैयब्बा प्रवीण ने वर्ग 8 तक की पढाई गांव के ही मध्य विद्यालय फकीरटोला से किया. उसके बाद प्रोजेक्ट कन्या उच्च विद्यालय सिमरी बख्यितारपुर से मैट्रिक की परीक्षा प्रथम श्रेणी से पास कर इंटर की परीक्षा डीसी कॉलेज सिमरी बख्तियारपुर (रोल नम्बर 30375) से दी और 398 अंकों का बेहतरीन अंक प्राप्त कर राज्य में चौथा स्थान हासिल किया है।

 

बेटी के इस सफलता से पिता को अपनी बेटी पर गर्व है।  माँ के खुशी का अंदाजा नहीं, वह इतनी खुश है कि रिजल्ट सुनते ही अपनी बेटी को अपने गले से लगा ली।  आस पास के लोग भी उसके इस सफलता पर गर्व कर रहे है।  लोग आब बात कर रहें है कि बेटी भी बेटा से कम नहीं।  चारों तरफ से प्रवीन को इस सफलता के लिए बधाई मिल रही है।

 

प्रवीन इस सफलता से अभी संतुष्ठ नहीं उसे तो और दूर तक का सफर तय करना है। प्रवीण की इच्छा आगे की पढाई कर आइएएस बनने की है. कहती है कि देखना में एक दिन आईएएस बनकर अपने राज्य का नाम रौशन जरूर करूंगी.

 

पाना है जो मुकाम वो अभी बाकि है,

अभी तो आये है जमी पर ,आसमां की उड़न अभी बाकि है…

अभी तो सुना है सिर्फ लोगो ने मेरा नाम,

अभी इस नाम की पहचान बनाना बाकि है। ?

 

 

 

 

Photo via – DBN