Bihari Weeding, Bihari bride, Bihari Dulhan, Bihari Marriage, Indian Marriage, Bihari Girls, Indian Women

सोलह सिंगार, आंखों पर चश्मा और बुलेट पर होकर सवार बिहारी दुल्हन की धमाकेदार एंट्री

शादी के मंडप पर पहुचने के लिए आपने दुल्हे की धमाकेदार एंट्री के बारे में तो सुनते ही होंगें| कोई घोड़ा पर आता है, कोई रथ पर सवार होकर तो कोई चार्टर्ड प्लेन से एंट्री मरता है| मगर शायद ही कभी दुल्हन की धमाकेदार एंट्री की बात होती है| दुल्हन प्रायः पालकी या कार से ही मंडप या जयमाला के लिए पहुँचती है|

मगर अब समय बदल रहा है| लड़कियां अब जागरूक होकर रुढ़िवादी परंपरा को न सिर्फ नाकार रही है, बल्कि समाज में एक नया ट्रेंड सेट कर रही है| बिहार के रामपुर के चिरैयाटांड़ निवासी राजेश कुमार की छोटी बेटी निक्की राज ने यही किया| उसने अपनी शादी में एसी धमाकेदार एंट्री मारी कि दूल्हा पक्ष समेत सभी बराती और स्थानीय लोग हैरान रह गये|

दुल्हन चश्मा लगाए बुलेट पर सवार होकर मंडप में पहुंचती है। दूल्हा मंडप के बाहर दुल्हन को रिसीव करने आता है और उसे साथ लेकर मंच पर चढ़ता है। इसके बाद दूल्हा-दुल्हन एक दूसरे को वरमाला पहनाने की कोशिश करते हैं। दुल्हन को जहां उसके भाई गोद में उठाते हैं वहीं दूल्हे को उसके दोस्त संभालते हैं। भाइयों की मदद से दुल्हन उछलती है और वर के गले में माला डालती है।

दरअसल, दुल्हन पूरी तरह से तैयार होकर बुलेट चला कर स्टेज पर आई| इसको देखकर बराती और दूल्हे राजा दंग रह गए| दुल्हन सोलह सिंगार करते हुए आंखों पर चश्मा लगा कर, पैर पर ब्रेक, हाथों में स्लेटर और क्लच दवाते हुए स्टेज पर पहुंची और एक-दूसरे को वरमाला पहनाया|

बता दें कि रामपुर के चिरैयाटांड़ निवासी राजेश कुमार की छोटी बेटी निक्की राज की शादी बोधगया थाना के टेकुना फार्म के रहने वाले सुदर्शन कुमार के बेटे नीतीश कुमार के साथ शादी तय हुई थी| 27 फरवरी को तिलक समारोह का आयोजन किया गया था, जबकि 3 मार्च को शादी का कार्यक्रम संपन्न हुआ| वहीं, दुल्हन के बुलेट से वरमाला पहनाने का मामला पूरे इलाके में चर्चा का विषय बना हुआ है|

यह शादी बहुत ही खास है| निक्की के इस फैसले की तारिफ करनी चाहिए| यह बात मामूली लग सकती है आपको मगर इसका सन्देश बड़ा है| हमारे समाज में पितृसत्ता हावी है जहाँ लड़कियों रुढ़िवादी संस्कृति और संस्कार के नाम पर ‘हद’ में रहने को सलाह देती है तो लड़कों कुछ भी करने की आजादी| निक्की की यह पहल उसी मानसिकता को चुनौती देती है|