लॉकडाउन में मिसाल कायम कर रहा बिहार, वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिये हो रही है शादियाँ

बेगूसराय में एक परिवार ने अपनी दो बेटियों का निकाह ऑनलाइन करवाया

कोरोना वायरस के कारण देश भर में लॉकडाउन है| इसके कारण पहले से तय शादी की तारिख भी बदली जा रही है| इस इस समस्या का समाधान भी बिहारियों ने खोज लिया है| बिहार के अनेक जिलों से ऑनलाइन शादी की खबर आ रही है| बिहार के ये परिवार ने इस लॉकडाउन में मिसाल पेश कर रही है|

बिहार के बेगूसराय में एक परिवार ने अपनी दो बेटियों का निकाह ऑनलाइन करवा कर लोगों को सही मायनों में लॉकडाउन का उदाहरण दिया| इस दौरान दुल्हनें बेगूसराय थीं तो दूल्हे गया और नालंदा में थे| अब ये शादी देश भर में चर्चा का विषय बन गई है|

25 मार्च को तय थी शादी की तारीख

बेगूसराय के छोटी बलिया मिदहटोली निवासी मोहम्मद वली अहमद कुरैशी की दो बेटियों नगमा परवीन और राहत परवीन की शादी 25 मार्च को तय की गई थी और इसी रोज बरात आनी थी| लेकिन, कोरोना वायरस के कारण लाॅकडाउन की घोषणा हो गई| ऐसे में बरात नहीं आ सकती थी और शादी टलने की नौबत आ गई|

रद्द कर दी गई 400 लोगों की दावत

बता दें कि इस खास मौके के लिए 400 लोगों को दावत दी गई थी जिसे लॉकडाउन को देखते हुए वापस ले लिया गया| बहरहाल दो सगी बहनों का ये ऑनलाइन निकाह पूरे क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है|

दुल्हन पटना की और दूल्हा गाजियाबाद का

कोरोना वायरस के संक्रमण और लॉक डाउन के बीच राजधानी में अनोखी शादी हुई। दुल्हन पटना की और दूल्हा गाजियाबाद का था। राजधानी के समनपुरा में सादिया नसरीन के घर बड़ा स्क्रीन लगा, उधर गाजियाबाद में दूल्हे के घर भी ऑनलाइन स्क्रीन लगा।

दो गवाहों के बीच काजी ने निकाह करा दी। दुल्हन के कबूल है, कबूल है, कबूल है, कहते ही दोनों परिवारों के बीच खुशियां छा गई। फिर बधाइयां, बधाइयां कह परिवार के लोग मुबारकबाद देने लगे। लॉक डाउन खत्म होने के बाद दोनों परिवारों ने मिलने का वादा किया। जानकारी के अनुसार निकाह की तैयारियां हो चुकी थी। 23 मार्च को दोनों का निकाह हारूण नगर के कम्युनिटी हॉल में होना था, लेकिन कोरोना संक्रमण और लॉक डाउन के कारण बाधा उत्पन्न हुई तो दोनों परिवारों ने निकाह का मन बना लिया।

इसके बाद दोनों परिवारों ने तकनीक का सहारा लिया। पटना में स्क्रीन के सामने दुल्हन के लिबास में सादिया नसरीन बैठी थी तो साहिबाबाद में दूल्हे के लिबास में दानिश रजा। दोनों परिवारों के लोग ऑनलाइन हुए और काजी और दो गवाहों के बीच निकाह हो गया।

ऑनलाइन हुआ शबनम और सद्दाम का निकाह

शबनम और सद्दाम के रिश्ते की जब बात चली थी, तो कोरोना की चर्चा भर थी, दोनो परिवारों को लग रहा था कि हालात समान्य हो जायेंगे. लेकिन, इसका खौफ बढ़ता गया| कोरोना शादी के बीच दीवार बन कर खड़ी हो गया और लड़के वालों को इलाबाद से बारात ले जाने की इजाजत नहीं मिली| इस मुसिबत का रास्ता निकालने के लिए यह तय किया गया कि शादी वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिये होगी| कोरोना के खौफ के बीच वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिये शादी यत होने के बाद तैयारियां शुरू हो गयी|

बिहार के कैमूर में होने वाले इस अनोखी शादी को लेकर पूरे जिले में चर्चा है| शादी मंगलवार को होनी है|

मंगलवार को शबनम और सद्दाम ऑनलाइन के तहत होने वाले निकाह से पवित्र बंधन में बंध जायेंगे| बता दें कि कैमूर के मुश्तक अहमद का बेटी शबनम की शादी इलहाबाद निवासी शौकत के पुत्र सद्दाम सो होने वाली थी| शादी को लेकर 23 मार्च को मेंहदी की रस्म पूरी होने के बाद 24 मार्च को बरात आनी थी पर कोरोना के कारण लॉकडाउन हो गया| और इसके बाद दोने परिवारों ने तय किया कि शादी वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिये होगी|

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: