नीतीश ने चुना अपना उत्तराधिकारी, चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर जेदयू में हुए शामिल

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर परदे के पीछे से बहार निकल अब राजनितिक रंग मंच के मुख्य किरेदार के तौर पर सबके सामने आ गये हैं| चुनावी राजनीति में अपनी महारत दिखा चुके और राजनीति के चाणक्य के रूप में मशहूर बिहार के बक्सर ज़िले में जन्मे प्रशांत किशोर पांडेय ने बिहार में सत्तारूढ़ जनता दल यूनाइटेड का दामन थाम लिया है|

2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को प्रचंड बहुमत से जीत दिलाने में प्रशांत किशोर को श्रय दिया जाता है| बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान जदयू और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के गठबंधन को जीत दिलाने में भी किशोर का महत्वपूर्ण योगदान था। बिहार के बाद उन्होंने पंजाब की कैप्टन अमरिंदर सिंह को भी सत्ता हासिल करने में अहम मदद की थी।

अपनी राजनीतिक पारी को शुरू करने से पहले किशोर ने खुद ट्वीट करके अपनी नई यात्रा की जानकारी दी थी। प्रशांत किशोर ने ट्वीट कर कहा था, ‘बिहार से अपनी नई यात्रा की शुरुआत करने को लेकर बहुत उत्साहित हूं।’ प्रशांत किशोर इस से पहले कई दलों के साथ काम कर चुकें हैं| कांग्रेस और बीजेपी जैसे राष्ट्रीय पार्टियों के शीर्ष नेताओं के बीच अच्छी पैठ होने के बाद भी प्रशांत किशोर ने जेदयू जैसे छोटी पार्टी में शामिल होने का निर्णय लिया है|

इसके पीछे कई कारण बताये जा रहें हैं| चुकीं प्रशांत किशोर खुद मूल रूप से बिहारी हैं इसलिए वह बिहार में काम करना चाह रहे थे| बिहार विधान सभा चुनाव में नीतीश कुमार के साथ काम करते हुए वे नीतीश कुमार के नजदीक आए| मगर इस सब के अलावा जो बात राजनितिक हलकों में तैर रही है, वह हैं कि प्रशांत किशोर को जेदयू में नीतीश कुमार के बाद नंबर 2 की हैसियत दी जाएगी|

यही नहीं, प्रशांत किशोर के जदयू में शामिल होने की खबरों के बीच बिहार के मुख्यमंत्री और जदयू प्रमुख नीतीश कुमार ने उन्हें भविष्य बताया है| मीडिया से बात करते हुए नीतीश कुमार ने कहा, ‘ मैं आपको कहता हूं, प्रशांत किशोर भविष्य हैं|’

सूत्रों से आ रही ख़बरों के अनुसार नीतीश कुमार ने जेदयू में प्रशांत किशोर को अपना उत्तराधिकारी बनाने का आश्वासन दिया है| प्रशांत किशोर अपनी संस्था इंडियन पॉलिटिकल एक्शन कमिटी (आई-पैक) के जरिये जेदयू को राष्ट्रीय स्तर पर विस्तार करेंगे और 2020 में फिर से नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री बनाने का रणनीति बनायेंगें| कुछ राजनितिक पंडितों का माने तो 2025 में प्रशांत किशोर जेदयू के तरफ से बिहार में मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार भी हो सकतें हैं|

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: