पद्मश्री अरुणिमा सिन्हा होंगी पटना के डेक्सस्कूल में ग्रेजुएशन स्पीकर

 

पद्मश्री एवं युथ आइकॉन अरुणिमा सिन्हा पटना में आयोजित होने वाले विश्व प्रसिद्द डेक्सटेरिटी स्कूल ऑफ़ लीडरशिप एंड एंट्रेप्रेन्योरशिप में चीफ गेस्ट के रूप में शामिल होंगी। पद्मश्री अरुणिमा सिन्हा माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाली पहली महिला निःशक्त हैं एवं प्रधानमंत्री श्री मोदी द्वारा स्वच्छ भारत एम्बेसडर भी नियुक्त की गयी हैं।

 

डेक्सस्कूल में होंगी चीफ गेस्ट

अरुणिमा सिन्हा पटना में आयोजित होने वाले डेक्सस्कूल में स्नातक भाषण करेंगी एवं दुनिया भर से आये युवा छात्र-छात्राओं को पटना में 17 जून को सम्मानित करेंगी। डेक्सस्कूल एक विश्व स्तरीय लीडरशिप एवं एंट्रेप्रेन्योरशिप का प्रोग्राम है जो युवा स्टूडेंट्स को लीडर्स के रूप में तैयार करता है। डेक्सस्कूल में भारत एवं एशिया भर के अलग अलग देशों से 50 बच्चों का चयन होगा जिन्हें फोर्ब्स के सूचित उद्यमी, पद्मश्री पुरस्कार विजेता, नासा के साइंटिस्ट्स एवं हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के एलुमनाई ट्रेन करेंगे।

अरुणिमा सिन्हा ने कहा –

पटना में आगमन से पहले पद्मश्री अरुणिमा सिन्हा ने कहा – “डेक्सस्कूल युवा लीडर्स तैयार कर रही है जो इस देश को आगे लेकर जाएंगे। आज के समय में भारत को इसकी ज़रूरत सबसे ज़्यादा है – युवा प्रगतिशील लीडर्स की। मैं डेक्सस्कूल में ग्रेजुएशन स्पीच देने के लिए एवं इस देश के भावी लीडर्स से मिलने के लिए उत्साहित हूँ। मुझे उम्मीद है कि मैं डेक्सस्कूल में आये पूर्व पद्मश्री वक्ताओं के विरासत को आगे ले जाऊँगी।

डेक्सस्कूल के फाउंडर का बयान –

डेक्सस्कूल की स्थापना वर्ष 2012 में सामाजिक उद्यमी शरद सागर ने की। शरद, जो बिहार से पहले उद्यमी थे जिनको अमेरिकी पत्रिका फोर्ब्स की युवा सूची में शामिल किया गया, ने कहा, “अरुणिमा सिन्हा ने पूरे विश्व को याद दिलाया कि साहस, कड़ी मेहनत और दृढ़ संकल्प हो तो कोई भी काम नामुमकिन नहीं है। डेक्सस्कूल के यह बुनियादी मूल्य हैं। मैं अरुणिमा सिन्हा के भाषण एवं बच्चों से वार्तालाप को लेकर बहुत उत्साहित हूँ और मुझे भरोसा है कि ये युवा लीडर्स उन सभी मूल्यों के लिए अपने जीवन में खड़े होंगे जिनके लिए वो खड़ी रहीं।”

बच्चे 2 जून तक कर सकते हैं आवेदन
डेक्सस्कूल के लिए आवेदन 02 जून तक खुले हैं। स्टूडेंट्स www.dexschool.org पर जाकर अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं एवं फॉर्म भर सकते हैं। डेक्सस्कूल में चयनित छात्र पटना में जून 11 से 17 के बीच सेशन में जुड़ेंगे। कार्यक्रम पटना के संत ज़ेवियर कॉलेज के 36 एकड़ के कैंपस में आयोजित होगा।

अरुणिमा सिन्हा के बारे में अधिक जानकारी

युवा आइकॉन, पर्वतारोही, लेखक एवं समाज सेविका पद्मश्री अरुणिमा सिन्हा विश्व की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवेरेस्ट पर चढ़ने वाली पहली निःशक्त महिला हैं। अरुणिमा को भारत सरकार द्वारा 2015 में पद्मश्री से नवाज़ा गया। उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्छ भारत अभियान का ब्रैंड एम्बेसडर भी नियुक्त किया। अरुणिमा सिन्हा की कहानी अति प्रेरणादायक है। वर्ष 2011 में अरुणिमा को चलती ट्रेन से कुछ लूटेरों ने फेंक दिया था और इस दुर्घटना में उन्होंने अपना एक पैर गंवा दिया। परन्तु अरुणिमा ने साहस एवं दृढ़ संकल्प का परिचय देते हुए एक पैर न होने के बावजूद पहाड़ चढ़ने जैसे कठिन लक्ष्य को साधा। 2013 में अरुणिमा सिन्हा ने माउंट एवेरेस्ट की चढ़ाई कर इतिहास रच दिया और देश का गौरव बढ़ाया। अरुणिमा सिन्हा विश्व के उन चुनिंदा लोगों में से हैं जिन्होंने सभी महादेशों के सबसे ऊंची चोटियों की चढ़ाई की है। अरुणिमा सिन्हा की जीवनी ‘बोर्न अगेन ऑन माउंटेन्स’ का लोकार्पण स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया। उत्तर प्रदेश के लखनऊ में अरुणिमा फाउंडेशन के माध्यम से वह वंचित बच्चों के लिए शिक्षा, स्वास्थय एवं खेल की सुविधाएं प्रदान करती हैं।

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: