राज ठाकरे पर मुंबई जाकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश ने साधा निशाना।

बिहार के मुखिया श्री नितीश कुमार ने महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (म.न.से.) के अध्यक्ष राज ठाकरे पर निशाना साधते हुए कहा कि जिन लोगों ने मुंबई में बिहार स्थापना दिवस समारोह का कभी विरोध किया था, वो अब शांत हो गए हैं।

मैथिली समन्वय समिति द्वारा आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री कहा कि बिहारियों ने देश में हर जगह अपने ज्ञान और क्षमताओं से नाम कमाया। नितीश कुमार ने कहा, ‘‘देशभर के लोग बिना बिहारियों के कोई काम नहीं करा सकते। नीतीश ने कहा कि, ‘बिहार के लोग किसी पर निर्भर नहीं हैं और न ही वे किसी पर बोझ हैं।’’ उन्होंने राज ठाकरे का नाम लिए बिना कहा, ‘‘कुछ लोगों ने यहां बिहार स्थापना दिवस का विरोध किया। अब वे शांत पड़ गए हैं।’’

मुख्यमंत्री 2012 में शहर में 100 वें बिहार स्थापना दिवस समारोह मनाने के लिए मुंबई में बिहारियों के खिलाफ ठाकरे द्वारा चलाए गए अभियान का उल्लेख कर रहे थे। नितीश कुमार ने तब कहा था कि उन्हें मुंबई में आने के लिए वीजा की आवश्यकता नहीं है। म.न.से. की राजनैतिक ताकत अब काफी घट गई है।

नितीश कुमार ने कहा कि वह अपनी उपलब्धियों का प्रचार करने की आवश्यकता नहीं महसूस करते। उनके राज्य में बदलाव खुद महसूस किया जा रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘हम किसी की नकल नहीं करते। हमारे विकास के काम को देखा जा रहा है।’’ समाज में आखिरी व्यक्ति तक विकास पहुंचे इस बात को सुनिश्चित करने के लिए सभी क्षेत्रों के विकास की आवश्यकता है।’’

“2012 में मुंबई में राज ठाकरे की पार्टी म.न.से. के नेतृत्व में बिहार के लोगों का जबर्दस्त विरोध हुआ था। मुंबई समेत महाराष्ट्र के कई इलाकों में परीक्षा देने आए बिहार के छात्रों पर हमला किया गया था। यही नहीं मुंबई में काम करने वाले बिहारियों को भी निशाना बनाया गया था।”

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: