1433 Views
1 Comments

Exclusive :बिहार के आईआईटियंस फैक्टरी का राज

जी  हाँ ! मैं आपको ले आया हूँ आज पटना (पाटलिपुत्र) के ऐतिहासिक जगह, जिसका 13 साल का शानदार स्वर्णिम इतिहास है ,  उपलब्धियों से भरा वर्तमान ! बिहार का गौरव, पुरे भारत की शान ! हाँ मैं बात कर रहा हूँ एक IITian’s फैक्ट्री की।बिहार के पटना में स्थित विश्व प्रसिद्द व्यक्तित्व श्री आनंद कुमार के सुपर 30 (Super 30) की !

इस विद्या के मंदिर तक जल्द-से-जल्द पहुँचने के चक्कर और जोश-जोश में  हमने पूरा पता भी पता नहीं किया| पूछ-पूछ के चलते गए मंजिल की तरफ।  उस अधूरे पते और आनंद सर के नाम के साथ आगे बढ़े जा रहे थे| यकीन मानिये इस कड़ी धुप भरी दोपहरी में साथियों के साथ हम कब लगभग 5 किलोमीटर पैदल चल गए, पता ही नहीं चला। गर्मी में बेहाल, पसीने से लथ-पथ , अपने पथ पर अग्रसर something like अग्निपथ!अग्निपथ!

जब अपना बिहार की टीम यहाँ पहुँची, आनंद सर का घर मिला, तो वाकई आनंदित हुआ मंजिल पाकर मुसाफिर। और जब उनके घर में दाखिला लिया तो क्या बताऊँ आँखे खुली , चेहरे पर मंद मंद मुस्कुराहट।

शानदार प्राकृतिक सानिध्य से भरा घर, छोटे-बड़े हरियाले पेड़-पौधे और चिड़ियों की चहचहाहट के बीच एकदम शांतिपूर्ण माहौल। अब लग रहा था ये कहाँ आ गए हम यूँ ही साथ-साथ चलते …! ख़ुशी से भरा पल !

आगे चले तो बायीं तरफ इंतजार करते कुछ मीडियाकर्मी  सर का इंतजार कर रहे थे।

फिर देखा बायीं तरफ एक तुलसी स्थल जिसपे कुछ भगवान के चित्र, आस्था और विश्वास का प्रतिक|  थोड़ा आगे बढ़ते ही मिला वो गाँव के जैसा मिट्टी का चूल्हा ( हाँ हम बिहार की राजधानी पटना शहर की बात कर रहे हैं )!  दायीं तरफ विद्या का वो मंदिर , जहाँ बेंच डेस्क लगा हुआ , एक ब्लैक बोर्ड , एक कुर्सी । हाँ यही वो स्थान है जँहा लगातार विगत 13 साल से कृतिमान बनाये जा रहे हैं और इसका नाम दुनिया के सबसे महानतम् विद्या संस्थानों में जुड़ चुका है !

इतना पावन दृश्य , क्या बताऊँ शब्द कम पड़ रहे हैं आज , सच में ! ये शानदार माहौल सकारात्मकता से भरा हुआ ! हम रोमांचित हो ही रहे थे कि इधर देखा गुरु द्रोण स्नान कर के लोगों से एक झलक मिलने आ गए| उन्होंने उस वक़्त पूरे कपड़े भी नहीं पहने थे, बस लुंगी में ही आ गए देखने कि कौन-कौन आये हैं ! किसी इंसान के सामान्य व्यक्तिव और सरल स्वाभाव का परिचायक है ये व्यव्हार ! पहले सभी मीडिया वालो से मिल| कुछ क्षण बातें कीं, फिर दूर ऐतिहासिक क्लास रूम में बैठे हम “आपना बिहार” के सदस्यों को देखा और खुद से पूछ दिया “आपलोग आपन बिहार टीम से आये हैं ?”  वाह बहुत अच्छा लगा की सर हमें पहचान गए , भले उन्होंने अंदाजा ही लगाया हो पर जी हम तो लट्टू  हो गए ख़ुशी से!

10 मिनट बाद आये और हमें बुलाकर अंदर एक कमरे में ले गए , वहां हमारा परिचय हुआ।हमसबों को असीम ख़ुशी मिल रही थी , आनंद सर भी हमारी बातें ध्यान से सुन रहे थे, दिलचस्पी ले रहे थे ! खुशनुमा माहौल का अंदाजा आप लगा सकते हैं क्या खूब यादगार पल थे वो , जब हम दीवाने अपने हीरो से मिल रहे थे , आनंद सर से मिल रहे थे ! सुपर 30 के आनंद कुमार से !

आनंद सर ने हमारी पिछली मुहीम #MatBadnamKaroBiharKo की सराहना की और कहा की आपलोग बहुत अच्छा कार्य कर रहे हैं, मुंबई में भी ये चर्चा का विषय था। फिर हमने अपनी जिज्ञासा दिखाई उनसे कुछ पूछने और सन्देश लेने की। हमारे वेबसाइट के साप्ताहिक 20 लाख लोगों तक पहुँच को देखते हुए हमने सवाल तैयार किये थे… विश्वस्तरीय शिक्षण देने वाले गुरु से ये सवाल तो लाजमी भी थे… है न !

उन्होंने विस्तृत वार्ता के लिए 3 दिन बाद समय देने की बात कही| हमने बताया – “हम देश के विभिन्न हिस्सों से आये हैं, हमारे फिर इस तरह साथ हो पाने का संयोग मुश्किल होगा”! तो उन साधारण व्यक्तिव और असाधारण प्रतिभा के मालिक ने अपने भक्तों की बात मान ली और इतनी सहजता से आग्रह की- “अभी 12:30 बज गए हैं दोपहर के, मैं भोजन कर के आता हूँ, फिर 10 मिनट  में मिलता हूँ”। और इसी बीच अंदर से मिठाई ( काजू बर्फी ) और पानी आया हमारे लिए| हमने इसे हमें “हाँ” मिलने के जश्न के रूप में लिया|

फिर हमसब उस ऐतिहासिक क्लासरूम में पहुंचे और महसूस किया, सचमुच कितनी सकारात्मक ऊर्जा से भरा था वो ज्ञान का मंदिर!

उस जीवंत माहौल को महसूस करने के लिए देखिए ये वीडियो –

 

ठीक 10 मिनट बाद आनंद सर लाल टीशर्ट और पैंट में चप्पल पहने आये हमारे पास| ये गर्मी और पसीना तो सबका साथ दे ही रही थी! कैमरा चालू किया गया , और याद आया- हम कॉलर माइक लाना भूल गए थे! आनंद सर ने कहा- “कोई बात नहीं पंखा बंद कर लेते हैं 10 मिनट के लिए”। सहसा इतनी गर्मी में ऐसा सुन के हम सब एक दुसरे का चेहरा देखने लगे , लेकिन ये बात अजीब उर्जा और शिक्षा दे गयी।

… और फिर शुरू हुआ हमारे ऐतिहासिक 9 मिनट, 24 सेकंड का वो यादगार पल ( साक्षात्कार वाला )जिसको हमने अपने ज़ेहन में हमेशा-हमेशा के लिए कैद कर लिया, हाँ कैद ही कर लिया! कैमरे में भी कैद किया है आप सब के लिए| जल्द ही वो पूरा विडियो भी ले के आयेंगे आपके बीच यहीं आपना बिहार वेबसाइट पर !

उम्मीद करता हूँ आपको ये हमारी सुपर 30 की पहली Documentry विडियो कवरेज  पसंद आई होगी , अगर अच्छा लगा हो तो विडियो को लाइक , शेयर और कमेन्ट कीजिये ! इससे हमारा उत्साह बढ़ेगा और आपके लिए आगे भी ऐसी ही शानदार पेशकश लायेंगे| बिहार के कोने कोने से बिहार की स्वर्णिम कहानीयाँ सुनायेंगे-दिखाएँगे|

 

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: