बिहार में बाढ़ का कहर, सहायता के लिए हेल्पलाइन नंबर 1070 डायल करें।

बिहार में अब भी बाढ़ का कहर जारी है, खासकर उत्तरी बिहार और सीमांचल के जिलों की स्थिति अभी भी विकराल बनी हुई है।

बाढ़ से बिहार के 21 जिले प्रभावित हैं, लेकिन सबसे ज्यादा मार राज्य के 14 जिलों पर पड़ रही है। जानकारी के मुताबिक राज्य सरकार ने गोपालगंज जिला को भी बाढ़ से प्रभावित जिलों में शामिल कर लिया है। आपदा प्रबंधन विभाग के अधिकारी लगातार जिलों में कैंप कर रहे हैं, लेकिन बाढ़ का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है।

वहीं सरयू के बढ़ते जलस्तर ने चिंता बढ़ा दी है। खतरे के निशान से ऊपर बह रही सरयू नदी, तटबंधों पर  दबाव बढ़ गया है, कई जगहों पर कटाव जारी है, जिसकी वजह से गोपालगंज पर खतरा बढ़ गया है।

प्रशासन ने बाढ़ग्रस्त इलाकों के लिए हेल्पलाइन नंबर 1070 जारी किया है। इस नंबर पर डायल कर बाढ़ग्रस्त इलाके के लोग फोन कर अपनी परेशानी बता सकते हैं। प्रशासन की तरफ से बाढ़ पीड़ितों को हरसंभव सहायता पहुंचाने की कोशिश की जा रही है। राजधानी पटना से आपदा प्रबंधन विभाग, जल संसाधन विभाग पल-पल की जानकारी ले रहा है। वहीं मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री भी बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण कर खुद जानकारी ले रहे हैं। राज्य में करीब 75 लाख लोग बाढ़ की चपेट में हैं। राहत और बचाव का कार्य जारी है। एनडीआरएफ, एसडीआरएफ सहित सेना के जवान मुस्तैदी से तैनात हैं। अबतक 2 लाख 74 हजार लोगों को सुरक्षित निकाला गया है। राहत में 504 राहत शिविर चलाए जा रहे हैं। लोगों को सुविधाएं पहुंचाने के प्रयास जारी है।

बाढ़ के कारण राज्य में रेल और सड़क यातायात पूरी तरह बाधित हो गया है। दरभंगा-समस्तीपुर रेलखंड और बगहा-बेतिया मुख्य मार्ग पर आवाजाही पूरी ठप्प है, वहीं मोतिहारी-सुगौली रेलखंड पर भी सेवा बाधित है।

 

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: