शराबबंदी की तरह अश्लील भोजपुरी फिल्मों पर रोक लगाये सरकार | पटना फिल्म फेस्टिवल

बिहार स्टेट फिल्म डेवलपमेंट एंड फाइनेंस कारपोरेशन के तरफ से राजधानी पटना में आयोजित सात दिवसीय पटना फिल्म फेस्टिवल में आयोजित पैनल डिस्कशन में भोजपुरी और बॉलीवुड के कई जाने माने कलाकार पत्रकारों से रु-बरु हुए. 
आइये जानते हैं पटना फिल्म फेस्टिवल में आयोजित परिचर्चा पर अबतक कलाकरों ने क्या महत्वपूर्ण बाते कही.

 भोजपुरी फिल्मों में अश्लीलता परोसने वाले नासमझ

भोजपुरी फिल्मों में अश्लीलता पर जवाब देते हुए भोजपुरी सुपरस्टार दिनेश लाल यादव ने कहा की यह सही है की कुछ लोगों ने यहाँ अश्लील फिल्मे बनायी और इस बात को मै नही नकार सकता हूँ। ऐसे लोगों को पता ही नहीं था की भोजपुरी क्या है, भोजपुरी की कल्चर क्या है, यहाँ के लोगों की चाहता क्या है. ऐसे फिल्म बनाने बनाने वालों का जबर्दस्त नुकसान हुआ, वैसे बड़े-बड़े बैनर आये और चले गये. आज भोजपुरी सिनेमा में वही लोग कार्यरत हैं जो अच्छी फिल्मे बना रहे हैं, यहाँ के रहन सहन को जानते हैं. भोजपुरी फिल्मों में वही फिल्म सफल हो पाती है जो फिल्म पुरे परिवार के साथ देखा जा सकता है. भोजपुरी फिल्मों में काफी बदलाव हुआ है और आगे भी होगा. आज भोजपुरी फिल्म सिर्फ बिहार और यूपी तक सीमित नही है, देश के हर प्रांत में भोजपुरी फिल्मे चल रही है.

माहौल बनेगा तो बिहार में भी बनेगी फिल्म

अपने लाजवाब अभिनय से रंगमच के साथ टीवी और फिल्म क्षेत्र में अपना अलग पहचान बनाने वाले बॉलीवुड अभिनेता संजय मिश्रा ने कहा कि क्षेत्रीय फिल्मों के विकास में सरकार बड़ी भूमिका निभा सकती है. संजय ने कहा की ये फिल्मों के विकास के लिए कॉरपोरेट की बड़ी जरूरत है लेकिन सिर्फ जय बिहार कहने भर से निर्मात्ता बिहार में आकर फिल्म नही बनायेगे बल्कि वैसा माहौल बनाना होगा. सही माहौल बना तो बिहार में फिल्मे जरुर बनेगी. पटना फिल्म फेस्टिवल एक शानदार पहल है.

    शराबबंदी की तरह अश्लील फिल्मों पर रोक लगाये सरकार

    चर्चित अभिनेता कुणाल सिंह ने कहा कि बिहारी होने पर गर्व कीजिए आपकी भाषा (भोजपुरी) बहुत मजबूत है. हिंदुस्तान में हिंदी के बाद सबसे ज्यादा बोली भाषा है. अपने संस्कृति और रीति-रिवाज से प्यार कीजिए इसे जिंदा रखिये और अश्लीलता को बिलकुल नकारिये.
    जानीमानी फिल्म निर्मात्ता मोनिका सिन्हा uने कहा की अश्लील फिल्मों को बिलकुल नकारिये, दर्शकों को इसके खिलाफ स्ट्रांग होना होगा. जबतक आप स्ट्रांग नही होंगे हम कुछ नही कर सकते. ऐसे फिल्मों से समाज पर काफी बुरा प्रभाव पड़ रहा है. इससे हमारा समाज सौ कदम पीछे जा रहा है. सरकार को भी इसपर ध्यान देना होगा. सरकार शराबबंदी को तरह अश्लील फिल्मों पर रोक लगाये.

    Search Article

    Your Emotions

      %d bloggers like this: