बिहार से विदा लेते हुए शिवदीप लांडे हुए भावुक, कहा “मेरी हर सांस के साथ बिहार की यादें जुड़ी रहेंगी..

आखिरकार आज बिहार पुलिस के सबसे मशहूर एसपी शिवदीप लांडे का नम आखों के साथ विदाई हो गई। उनको तीन साल तक महाराष्ट्र में प्रतिनियुक्ति पर भेजा गया है।

एयरपोर्ट पर उनके आने से पहले ही युवाओं का हुजूम फूल, माला औ और गुलदस्ता के साथ शिवदीप लांडे का इंतजार कर रहा था। लोगों के चेहरे पे उदासी और उनके जाने का गम चेहरे पर साफ झलक रहा था। अपने प्रति लोगों के अपार प्रेम देख और अपने कर्मभूमि बिहार को छोड़कर जाने का दर्द को वह भले काले चश्मा लगा के छुपाने में सफल हो गये मगर बिहार से जाने के बाद अपने भावना  को ज्यादा देर तक छुपा न सकें और अपने अधिकारिक फेसबुक आईडी से पोस्ट कर सबके सामने जाहिर कर दिये ।

“मैं  आज न चाहते हुए भी खुद को भावुक होने से न रोक सका, पर मेरे इस काले चश्मे ने मेरे नम आँखों को सबके सामने आने से रोक लिया। मुझे लोगों ने हमेशा एक टफ़ छवि में देखा है और मैं वैसा ही वहां से विदा होना चाहता था। बिहार मेरा परिवार है, सभी बिहारी मेरे दिल में बसते हैं और मैं वापस आकर अपने परिवार की हिफाज़त करता रहूँगा।”

-शिवदीप  

img_20161117_223913_027

माहौल पूरा इमोशनल था । एक पुलिस अफसर के लिए लोगों की यह दिवानगी शायद ही कभी दिखा होगा।

शिवदीप लांडे ने जाने से पहले “आपन बिहार” के कामों का सराहना किया तथा “आपन बिहार टीम” को शुभकामना दी और कहा आपन बिहार ने हमेशा मेरे एसटीएफ एसपी होने के तौर पे साथ निभाया है और जो भी महत्वपूर्ण अॉपरेशन हुए हैं उसको लोगों के सामने लाया है। उन्होंने कहा “जब-तक मेरी सांसे चलती रहेगी.. हर सांस के साथ बिहार की यादें जुड़ी रहेंगी”.

शिवदीप लांडे हमेशा अपने इमानदारी और बहादुरी के लिए बिहार में याद किये जायेंगे । उन्होंने दुसरे पुलिस अफसरों के लिए भी एक मिशाल कायम कर दिया है। इसमें  तो कोई दो राय नहीं कि बिहार ने एक बहादुर और ईमानदार अफसर को खो दिया।

लोगों को पूरी उम्मीद है कि 3 साल बाद बिहार का सिंघम फिर लौटेगा ।

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: