देश के बड़े शहरों में प्रवासी मजदूरों की मदद कर रही है रेनड्रॉप्स फाउंडेशन

रेफाउंडेशन, एक युवा-संचालित एनजीओ है जो सक्रिय रूप से देश के विभिन्न हिस्सों में प्रवासी मजदूरों और दिव्यांग व्यक्तियों को राहत प्रदान कर रहा है।

कोरोनावायरस जैसे वैश्विक महामारी के कारण होने वाले संकट ने समाज में लगभग सभी वर्गो के लोगों को परेशान किया है, लेकिन इसका सबसे ज्यादा असर हमारे समाज के सबसे कमजोर वर्गों में से एक बड़े शहरों में दिहाड़ी पर काम करने वाले प्रवासी मजदूरों पर हुआ हैं। इन्होंने अपनी नौकरी खो दी जिसके कारण आज उनमें से बहुतों के पास दैनिक आवश्यक खाद्य सामग्री खरीदने के लिए पर्याप्त पैसा नही बचे हैं।

यह अक्सर कहा जाता है कि संकट के समय में समाज की अच्छाई की पहचान की जाती है। जब समाज ऐसे लोगों की मदद करने के लिए एक साथ आता है, तो हम सभी को इसकी सराहना करने की जरूरत है। रेनड्रॉप्स फाउंडेशन द्वारा इस वैश्विक महामारी में किया गया काम बहुत सराहनीय और प्रशंसनीय हैं।

रेफाउंडेशन, एक युवा-संचालित एनजीओ है जो सक्रिय रूप से देश के विभिन्न हिस्सों में प्रवासी मजदूरों और दिव्यांग व्यक्तियों को राहत प्रदान कर रहा है। अपनी स्थानीय टीमों के माध्यम से, ये 4,000 लाभार्थियों को 500 किलोग्राम से अधिक की राहत सामग्री प्रदान करने में सक्षम हुआ हैं।

इस सूची में छत्तीसगढ़, झारखंड, राजस्थान, म.प्र, और उ.प्र। के दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी शामिल हैं, जिनमें से अधिकांश बिहार से आए प्रवासी थे।

पहचान, सत्यापन और वितरण के लिए अलग-अलग टीमें।
फाउंडेशन के सभी प्लेटफार्मों पर सक्रिय सोशल मीडिया खाते हैं, जिसके माध्यम से उन्हें खाद्य सामग्री के लिए अनुरोध प्राप्त होते हैं। सबसे शुरुआती अनुरोधों में से एक बिहार के सिंघवाहिनी पंचायत के प्रसिद्ध कार्यकर्ता-सरपंच रितु जायसवाल से आया था। उन्होंने एनजीओ को सीतामढ़ी के प्रवासियों के विवरण वाली पोस्ट पर टैग किया था। उन्हें जल्दी से पहचान लिया गया था, और 24 घंटे में राशन प्रदान किया गया था।

प्रांजल सिंघल, जो कोविड ​​राहत अभियान का ऑनलाइन समन्वय कर रहे हैं, कहते हैं, सच कहूं तो इतने कम समय में ज़रूरतमंदों तक राहत सामग्री पहुँचना थोड़ा मुश्किल ज़रूर लगता है, लेकिन सभी सदस्यों की मदद से हम ये आसानी से कर लेते है | जैसे ही कोई भी व्यक्ति हमें Twitter, Facebook या किसी अन्य माध्यम से ज़रूरतमंदों की जानकारी देता है, हमारी पूरी टीम उस पर एकदम बिना किसी देरी के लग जाती है |

राशन उपलब्ध  कराने के लिए हमें बस 3 चीज़ो की ज़रूरत होती है: लोगो की संख्या, उनका पता, एवं मोबाइल नंबर | जैसे ही कोई मदद का निवेदन आता है, हमारी टीम का एक सदस्य उनसे संपर्क करता है, जबकि कोई दूसरा सदस्य राशन का इंतज़ाम करता है | जल्द ही हम ज़रूरतमंद परिवार तक राशन पंहुचा देते है | उनके चेहरों पर आयी एक सुकून की मुस्कराहट ही हमारे लिए सब कुछ होती है |

नई तकनीक आधारित समाधानों के साथ होने चुनौती से लड़ना
कई बार जोखिम एवम् लंबी दूरी वाले क्षेत्रों में स्वयंसेवकों को भेजने से बचने के लिए ऑनलाइन खाद्य वितरण प्रणाली का भी उपयोग किया जाता है। कुछ दुर्गम क्षेत्रों में, राहत सामग्री सीधे ऑनलाइन किराने की दुकानों के माध्यम से भेजी गई थी। यह प्रावधान इसलिए शुरू किया गया था क्योंकि कुछ दानदाता गैर-सरकारी संगठनों को मौद्रिक दान देने में सहज नहीं हैं। ऑनलाइन डिलीवरी के जरिए सीधे राशन और जरूरी सामान भेजने के विकल्प ने कई लोगों को फायदा पहुंचाया।

सामाजिक दूरी, स्वास्थ्य मानकों और सरकारी नियमों का पालन करना

प्रत्येक स्वयंसेवक को सामाजिक दूरी, स्वास्थ्य – स्वच्छता मानकों और अन्य सरकारी नियमों की निर्धारित शर्तों का पालन करने के लिए प्रशिक्षित किया गया है।

राहुलख खत्री जो ऑन-ग्राउंड गतिविधियों का नेतृत्व करते हैं, वह कहते हैं कि हमारे स्वयंसेवकों और साथ ही लाभार्थियों की सुरक्षा सुनिश्चित करना बेहद महत्वपूर्ण है। “हम तब ही अधिक लोगों की मदद कर सकते हैं यदि हम सभी सुरक्षित और स्वस्थ रहे । यह भी खुशी की बात है, जब लाभार्थी सहयोग करने के लिए सहमत होते हैं, और लाइन में खड़े रहने के दौरान सामाजिक गड़बड़ी का पालन करते हैं। ”

हम केवल संवेदना के माध्यम से इस संकट को दूर कर सकते हैं
रेनड्रॉप्स की संस्थापक चांदनी आहूजा का कहना है कि पूरी टीम सहानुभूति से अधिक संवेदना के मंत्र ’में विश्वास करती है। “जब हम राहत कार्य के लिए बाहर जाते हैं, हम उन्हें बेहसहरा या लाचार’ के रूप में नहीं देखते हैं। इसके बजाय हम मानते हैं कि हम सभी मनुष्य के रूप में सबसे बुनियादी कर्तव्य कर रहे हैं। यह हम सभी के लिए जरूरी है कि हम दूसरों की दर्द को समझें।

फाउंडेशन ने 2019 में बिहार बाढ़ के दौरान राहत कार्यों में सक्रिय रूप से काम किया है। सरकार के किसी भी आर्थिक मदद के बिना, टीम सोशल मीडिया के माध्यम से संसाधन जुटाती है और देश के विभिन्न हिस्सों में कई परियोजनाएं चलाती है। सोशल मीडिया से जरूरतों की पहचान करने और धन जुटाने के अलावा, वे दिव्यांग व्यक्तियों पर COVID के प्रभाव पर एक डिजिटल वकालत अभियान भी चला रहे हैं।

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: