वाट्सअप पर हर सुबह ‘गुड मॉर्निंग’ और रात को ‘गुड नाईट’ वाला एक अजनबी दोस्त की कहानी

हर सुबह उठ के देखता ‘गुड मॉर्निंग’ का मैसेज होता, रात को सोने जाता ‘गुड नाईट’ का मैसेज होता सोचता कितना बेवकूफ इंसान है ये, बकचोदी वाला काम करता है? इसको नम्बर ही नहीं देना चाहिये था| जरूरी है रोज गुड नाईट, गुड मॉर्निंग मैसेज करना? वाट्सअप, नेट फ्री का मिल गया है तो रोज यही करेगा?

और इरिटेट हो जाता, लेकिन दो दिन हो गए उसके मैसेज नही आये, कुछ अधूरा लगा, पता नहीं क्यों इधर से पहली बार मैंने ‘गुड मॉर्निंग’ भेजा लेकिन बस सिंगल टिक बन के रह गया थोड़ा अजीब लगा| उसके फेसबुक प्रोफाइल को चेक किया दो दिन से अपडेट नही थे, मुझे लगा कही उसका नेट खत्म हो गया होगा|

एक दिन उसके जन्मदिन का नटिफिकेशन मिला| मैंने ‘हैप्पी बर्थडे’ लिखा, शाम तक तो कोई उसपे कॉमेंट या लाइक नहीं दिखा, उसके फ़्रेंडलिस्ट से कई लोग ‘हैप्पी बर्थडे’ विश कर चुके थे| अचानक एक लड़के ने कॉमेंट किया “Bro, he is no more, wo marr chuka hai, ek mahine ho gye uske accident hue” मेरे दिल मे ठक से लगा, और एक अजीब सी ग्लानि में खो गया|

आज सबके गुड मॉर्निंग और गुड नाईट का जवाब देता हूँ, खुद से गुड मॉर्निंग भी भेजता हूँ, आखिर हमने व्हाट्सअप फेसबुक इनस्टॉल क्यों कर रखा है? बार-बार चेक क्यों करते है? अब हमेशा बेहतरीन, फनी और मजेदार ही मैसेज तो नही मिल सकते न?

इसलिये ऐसे रिश्तों को भी समझिये,आपको कोई तभी परेशान करेगा जबतक वो जिंदा है|
#एक अजनबी दोस्त ।
#sorry दोस्त..

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: