मोदी कैबिनेट: बिहार के अश्विनी चौबे-आरके सिंह केंद्र में बने मंत्री

नरेंद्र मोदी सरकार के मंत्रिमंडल में रविवार को तीसरी बार फेरबदल किया गया| जिसमें कई नये चेहरे को भी मौका दिया गया है| इनमें बक्सर से भाजपा सांसद अश्विनी चौबे और आरा से भाजपा सांसद आरके सिंह को भी शामिल किया गया है| बिहार से ये दोनों सांसद पहली बार केंद्र में मंत्री बनाये गये है| सांसद अश्विनी कुमार चौबे को केंद्र में मंत्री पद की शपथ लेते ही भागलपुर से बक्सर तक और सांसद आरके सिंह के मंत्री पद की जिम्मेदारी मिलते ही सुपौल से आरा तक में खुशी छा गयी|

मिशन-2019 के पहले सरकार के काम को बेहतर करने के लिए कैबिनेट में इन नये चेहरों को शामिल करने का फैसला किया गया है| इसमें प्रशासनिक क्षेत्र के अनुभवी लोगों से लेकर लंबे समय तक संगठन व राज्य सरकारों में मंत्री रहे नेताओं को शामिल गया हैं|

जेपी आंदोलन में शामिल थे

1977 में पटना विवि छात्र संघ के अध्यक्ष के रूप में उनके राजनीतिक कॅरियर की शुरुआत हुई। जेपी आंदोलन में वे 23 महीने जेल में रहे। उस आंदोलन में पटना पुलिस की इतनी लाठियां उनपर बरसी थीं कि वे महीनों अस्पताल में भर्ती रहे। 1979 के बाद अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में आए। 1981 में भाजपा में आए। पहले भाजयुमो में काम किया। भाजपा के पूर्णकालिक कार्यकर्ता के रूप में करीब दस सालों तक काम किया।  बिहार- झारखंड से नरेन्द्र मोदी मंत्रिमंडल के ब्राह्मण चेहरा होंगे। चौबे आरएसएस से जुड़े हैं।

आरा के सांसद आरके सिंह रहे हैं दमदार आईएएस

सांसद आरके सिंह के केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किये जाने की सूचना से ही सुपौल व भोजपुर में जश्न मनने लगा। केंद्रीय गृह सचिव के रूप में ख्याति पाने वाले आरके सिंह देश के दमदार आईएएस माने जाते रहे हैं। मूल रूप से  सुपौल जिले के बसबिट्टी  गांव निवासी आरके सिंह को 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने आरा से टिकट दिया। सिंह की ससुराल भोजपुर के बड़हरा ब्लॉक के गजियापुर में है। अपनी बेहतर प्रशासनिक क्षमता और सांसद के रूप में बेहतर कार्य करने के चलते उन्हें मोदी मंत्रिमंडल में जगह मिली है। भाजपा के जिला महामंत्री इंजीनियर धीरेंद्र सिंह दिल्ली पहुंच गये हैं। वे रविवार को आयोजित शपथ ग्रहण समारोह में सांसद आरके सिंह के साथ मौजूद रहेंगे। धीरेंद्र सिंह ने बताया कि मंत्री बनने के बाद भोजपुर  का विकास करेंगे।

चर्चा थी कि जदयू के दो मंत्री बनेंगे
रविवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल में विस्तार हुआ। पिछले एक पखवारे से यह चर्चा थी कि जदयू के दो सांसदों को केंद्रीय कैबिनेट में जगह मिल रही है। इस क्रम में जदयू के राज्यसभा सदस्य आरसीपी सिंह और सांसद संतोष कुशवाहा का नाम काफी प्रमुखता से चर्चा में था। जदयू के केंद्रीय नेतृत्व के इस बयान से इस चर्चा ने अलग रंग ले लिया। रविवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार चैंबर ऑफ कॉमर्स में आयोजित एक कार्यक्रम में शामिल होने आए थे। संवाददाताओं ने उनसे इस बारे में सवाल पूछे तो उन्होंने साफ कहा कि उन्हें जानकारी नहीं है।

त्यागी ने कहा कि हमसे नहीं हुई कोई बात
जदयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता और प्रधान राष्ट्रीय महासचिव केसी त्यागी से जब इस बारे में बात की गई तो उन्होंने भी कहा कि आधिकारिक तौर पर जदयू को केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार के बारे में कोई जानकारी नहीं है।

 

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: