जलियांवाला बाग में मरने वाले सिर्फ हिंदू, सिख या मुसलमान नहीं थे, वे हिन्दुस्तानी थे – राहुल गाँधी

चंपारण सत्याग्रह के 100 साल पूरे होने के अवसर पर बिहार में आयोजित समारोह में हिस्सा लेने पटना पहुंचे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आज कहा कि कोई जरूरी नहीं है कि जिसके पास सत्ता हो, उसमें सच्चाई हो. राहुल गांधी ने कहा कि जिसके हाथ में सत्ता है वो नफरत फैलाने की कोशिश करता है, डराने की कोशिश करेगा, देश की जनता उनकी बात मानने को तैयार नहीं होगी. उन्होंने कहा, देश में नफरत फैलाने वाले कभी सफल नहीं होंगे.

 

राहुल गांधी ने कहा, हिन्दू, हिन्दू का शोर करने वालों को ये पता नहीं है कि हिन्दू का मतलब सच्चाई की रक्षा करना है. यह धर्म हमें सच्चाई का समर्थन करने और अन्याय के खिलाफ लड़ने की शिक्षा देता है.  गीता हमें क्या सिखाती है, यही कि सिर्फ सत्य बोलें और सत्य का ही आचरण करें।”

उन्होंने कहा कि जलियांवाला बाग में मरने वाले सिर्फ हिंदू, सिख या मुसलमान नहीं थे, वे हिन्दुस्तानी थे।

राहुल ने कहा, “अगर कोई नफरत फैलाना चाहता है और लोगों को बांटना चाहता है, तो अंतत: ऐसे लोग सच्चाई के सामने हार जाएंगे।”

उन्होंने तिरंगा की चर्चा करते हुए कहा, “यह तिरंगा सिर्फ कपड़े का टुकड़ा ही नहीं है, इसके पीछे रिश्ते हैं, भाईचारा है, प्यार है।”

राहुल ने सौ साल पूर्व के चंपारण सत्याग्रह को याद करते हुए कहा कि महात्मा गांधी ने अपने सत्याग्रह से भारत के लोगों के भीतर का डर दूर भगाया और उनमें आत्मविश्वास जगाया।

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: