नवरात्रि के चौथे दिन आदिशक्ति माँ कुष्मांडा का पूजा किया जाता है

नवरात्रि में चौथे दिन देवी को कुष्मांडा के रूप में पूजा जाता है। ऐसा माना जाता है कि अपनी मंद, हल्की हंसी के द्वारा अण्ड यानी ब्रह्मांड को इन्होंने उत्पन्न किया था| सृष्टि की रचयिता इस देवी को आदिस्वरूपा या आदिशक्ति भी कहा जाता है।

माँ कुष्मांडा की आठ भुजाएँ हैं। सात भुजाओं में क्रमशः कमण्डल, धनुष, बाण, कमल-पुष्प, अमृतपूर्ण कलश, चक्र तथा गदा हैं। आठवें हाथ में सभी सिद्धियों और निधियों को देने वाली जप माला है। इस देवी का वाहन सिंह है और इन्हें कुम्हड़े की बलि प्रिय है। संस्कृति में कुम्हड़े को कुष्मांड कहते हैं, इसलिए इस देवी को कुष्मांडा कहा गया।
इस देवी का वास सूर्यमंडल के भीतर लोक में है। सूर्यलोक में रहने की शक्ति क्षमता केवल इन्हीं में है। इसीलिए इनके शरीर की कांति और प्रभा सूर्य की भांति ही दैदीप्यमान है। इनके ही तेज से दसों दिशाएँ आलोकित हैं। ब्रह्मांड की सभी वस्तुओं और प्राणियों में इन्हीं का तेज व्याप्त है।

अचंचल और पवित्र मन से नवरात्रि के चौथे दिन इस देवी की पूजा-आराधना होती है। इससे भक्तों के रोगों और शोकों का नाश होता है तथा उसे आयु, यश, बल और आरोग्य प्राप्त होता है। यह देवी अत्यल्प सेवा और भक्ति से ही प्रसन्न होकर आशीर्वाद देती हैं| यह देवी आधियों-व्याधियों से मुक्त करती हैं और उसे सुख समृद्धि और उन्नति प्रदान करती हैं।

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: