इस अंग्रेजन के दिल में बस गया बिहारी छोरा, लिये सात फरे

पटना: सही कहां गया है प्यार की कोई भाषा नहीं होती है, न ही उसकी कोई धर्म होती है और न ही कोई उसकी जाती।  प्यार एक एहसास है जो न किसी जाती-धर्म के बंधन में बंध सकती और न ही किसी मूल्क की सरहद उसे रोक सकता है।  

 

ऐसा ही कुछ हुआ है बिहार के पूर्वी चंपारण के लखौरा निवासी अभियंता शशिभूषण सिंह के बेटे इंजीनियर चंद्रशेखर के साथ। चंद्रशेखर का दिल सात समंदर पार यूके के हेरफील्ड म्यूज (लंदन) निवासी हिलेरी पामर व मार्टिन पामर की बेटी सैफ्रन पर आ गया और उसने शादी करने का फैसला लिया।

 

शादी के दौरान चंद्रशेखर और सैफ्रेन

शादी के दौरान चंद्रशेखर और सैफ्रेन

रविवार को शादी के लिए पटना के मौर्या होटल में विवाह मंडप सजाया गया। हिंदू रीति रिवाज के अनुसार दोनों की शादी हुई। शादी में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद समेत कई दिग्गज शामिल हुए।

 

कैसे हुआ प्यार
चंद्रशेखर के मुताबिक 2003 में वो लंदन में पढ़ाई करने गए थे। इसी दौरान कॉलेज में उन्हें सैफ्रन से प्यार हो गया। दोनों परिवार की मंजूरी भी मिल गई और रविवार को दोनों ने माता-पिता के आशीर्वाद से सात फेरे लिए।

भारतीय परंपरा से इंप्रेस हुईं सैफ्रेन
सैफ्रेन का कहना है कि उन्हें भारतीय परंपरा बहुत पसंद आई। लंदन में इस तरह से शादी नहीं होती। उसे बिहार आकर गर्व महसूस हो रहा है।

 

सैफ्रेन के माता-पिता ने बरातियों का किया स्वागत।

सैफ्रेन के माता-पिता ने बरातियों का किया स्वागत।

चंद्रशेखर की बारात पटना के पटना के राजीव नगर स्थित चंद्रकांता कॉम्पलेक्स से डाक बंगला चौराहा होते हुए लगभग तीन किमी की दूरी तय कर मौर्या होटल पहुंची। वहां लंदन से आए सैफ्रन के भाई क्रिश्चन पामर व मां हिलेरी पामर ने अन्य परिजनों के साथ बारातियों का फूल-माला से जोरदार स्वागत किया।

 

 

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: