Trending in Bihar

Latest Stories

361 Views

डेब्यू टेस्ट में शतक जड़ने के बाद गया जिला, पृथ्वी शॉ के पैतृक गांव में जश्न का माहौल।

भारतीय क्रिकेट टेस्ट टीम में पदार्पण करने के साथ डेब्यू मैच में शतक लगाने के बाद पृथ्वी शॉ बिहार के गया जिले के मानपुर के रहनेवाले हैं। मानपुर में पृथ्वी के दादाजी अशोक साव कपड़े की दुकान चलाते हैं। पृथिवी ने वेस्टइंडीज के खिलाफ मात्र 99 गेंदों पर शतक जड़ने के बाद पृथ्वी के पैतृक गांव में जश्न का माहौल दिखा। लोग क्रिकेट मैच छोड़ कर सड़कों पर आ गये। पृथ्वी के कई प्रशंसक उनके दादा जी के घर पहुंच कर उन्हें बधाई दी और मिठाई खिलाई। साथ ही पटाखे फोड़ कर जश्न मनाया। मानपुर निवासी अशोक साव के पुत्र पंकज शॉ के इकलौते बेटे पृथ्वी शॉ अब महाराष्ट्र के मुंबई में रहते हैं। वह मूलरूप से गया के मानपुर के पटवा टोली के निवासी हैं। अब भी यहां पृथ्वी के दादा-दादी के साथ परिवार के अन्य सदस्य रहते हैं। गुरुवार को भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने जैसे ही पृथ्वी शॉ को टेस्ट कैप दिया, पूरा परिवार खुशी से झूम उठा।

पृथ्वी का टीम इंडिया के लिए चयनित होने पर पृथ्वी के दादा अशोक साव बधाई देने मुंबई भी गये थे। उस समय पृथ्वी ने इंग्लैंड में बढ़िया प्रदर्शन का भरोसा दिया था, लेकिन उन्हें इंग्लैंड दौरे पर मौका नहीं मिल सका। मालूम हो कि पृथ्वी शॉ ने 14 फर्स्ट क्लास मैचों में अब तक 56.72 रन की शानदार औसत से 1418 रन बनाये हैं। वह सात शतक और पांच अर्धशतक लगा चुके हैं।

सचिन के बाद पृथ्वी शॉ ने किया ये कारनामा, विराट ने ऐसे दी शाबाशी, फैन्स बोले- नए सितारे का हुआ जन्म

सचिन तेंदुलकर ने 2013 में वेस्टइंडीज के खिलाफ ही अपना आखिरी मैच खेला था। ठीक 5 साल बाद पृथ्वी शॉ ने वेस्टइंडीज के खिलाफ ही डेब्यू किया। वो भी शतक (134 रन) जड़कर उन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में एंट्री की।  कुछ इस तरह फैन्स पृथ्वी शॉ की तुलना लोग सचिन तेंदुलकर जैसे महान खिलाड़ी से कर रहे हैं। जिनको ‘क्रिकेट का भगवान’ कहा जाता है। बचपन में जब पृथ्वी ग्राउंड पर प्रैक्टिस किया करते थे तो सचिन क्रिकेट में रिकॉर्ड बना रहे थे. पृथ्वी पहला मैच खेलने उतरे तो क्रिकेट फैन्स को उनके खेलने का तरीका बिलकुल सचिन तेंदुलकर जैसा लगा। हाइट भी उतनी ही और खेलने का तरीका भी वैसा ही। लोग उनको अब भारतीय क्रिकेट का फ्यूचर स्टार मान रहे हैं। कई यूजर तो भारत का दूसरा सचिन तेंदुलकर बोल रहे हैं।

Search Article

Your Emotions

    Leave a Comment

    %d bloggers like this: