निलंबित किये गए मुजफ्फरपुर केंद्रीय विद्यालय के प्रिंसिपल!

_c8f15e1a-952c-11e6-98f6-96638e85be2b

मुज़फ़्फ़रपुर,बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर केंद्रीय विद्यालय के प्रिंसिपल राजीव रंजन को में एक दलित छात्र के साथ मारपीट के मामले में स्कूल में सस्पेंड कर दिया गया है और वो दोनों अभियुक्त जो की इस मामले के जिमेदार है उनको स्कूल से निकाल दिया गया है!

 

एमएल मिश्रा जो कि अभी तात्कालिक केंद्रीय विद्यालय संगठन पटना के उपायुक्त है उन्होंने इसकी पुष्टि बीबीसी को की है!सही समय पर सूचित नहीं किए जाने के लिए और  प्रिंसिपल राजीव रंजन जिन्होंने इस घटना-कर्म को कई  हफ़्तों तक दबाए रखा इसके लिए श्री मिश्रा के अनुसार उन्हें दोषी करार किया गया है!इतना ही नही बाकि के भी बचे तीन छात्र जो की इस मुद्दे में सम्मिलित थे उन पर भी कार्रवाई करने के आदेश दे दिए गए हैं.जो की अभी पुलिस के अनुसार तीनों अभियुक्त छात्र फ़िलहाल फ़रार हैं और पुलिस उनकी तलाश कर रही है.

.
आपको बता दूँ की पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वो दलित छात्र के साथ मारपीट का एक वीडियो देखने के बाद में भी लोगों में भी काफी आक्रोश दिखाई देने लगी है, जिसके बाद केंद्रीय विद्यालय प्रशासन और पुलिस भी हरकत में आ गई है!इस मामले में दो नाबालिग़ लड़कों को भी पुलिस ने गिरफ़्तार किया है.

आपको बता दे की बीबीसी से बातचीत के दौरान पुलिस अधीक्षक आनंद कुमार ने कहा है की कुल पांच छात्रों को इस मामले में अभियुक्त बनाया गया है जिनमें से दो लड़कों को गिरफ़्तार कर लिया गया है!

ज़िला पुलिस अधीक्षक आनंद कुमार ने बीबीसी से बातचीत में कहा कि इस मामले में कुल पांच छात्रों को अभियुक्त बनाया गया है जिनमें से दो लड़कों को गिरफ़्तार कर लिया गया है.पुलिस की माने तो उनका कहना है की गिरफ़्तार किए गए दोनों छात्र भाई हैं और नाबालिग़ हैं, इसलिए उन्हें जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड के सामने पेश किया गया.उन्हें बोर्ड के अदेसनुसार राज्य सरकार के ज़रिए चलाए जा रहे जुवेनाइल सेंटर भेज दिया है.प्रशासन के अनुसार यह मामला 2016 के अगस्त का ही है

अपने नाना के साथ रहता है पीड़ित छात्र.पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की थी जब उनके पीड़ित छात्र के नाना ने शिकायत की थी,लेकिन पुलिस हरकत में तो तब आई जब छात्र के पिता ने एससी-एसटी थाने में केस दर्ज करवाया !
.

Facebook Comments

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.

top