एसपी और डीएम एकसाथ मोटरसाइकिल से ही बाढ़ प्रभावित लोगों के मदद के लिए निकल पड़ते हैं

बिहार के सीमांचल में स्थित बारह से ज्यादा जिलों में बाढ़ की स्थिति बहुत गंभीर बनी हुई है| अब बाढ़ का पानी नए क्षेत्रों में प्रवेश कर रहा है| राज्य की प्रमुख नदियां अभी भी भी विभिन्न जगहों पर खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं| राज्य के विभिन्न जिलों के करीब 65.40 लाख की आबादी बाढ़ की चपेट में है| पटना स्थित बाढ़ नियंत्रण कक्ष के मुताबिक बिहार की प्रमुख नदियों के जलस्तर में अभी कोई विषेश कमी नहीं हुई है|

इसके अलावा पूर्णिया में बाढ़ से राहत और बचाव के कार्य तेज हैं| डीएम पीके झा और एसपी निशांत तिवारी कैम्पों का लगातार और दिन-रात जायेजा ले रहें हैं और बाढ़ में घिरे पीड़ितों के बीच हेलीकॉप्टर के साथ मोटोरसाकिल से भी राहत पैकेट गिरवाए| डीएम पीके झा एसपी निशांत तिवारी सेना के साथ मिलकर लगातार प्रभावित इलाकों का दौरा कर रहे हैं| चुकी बाढ़ के कारण कई जगह रोड टूट गएँ हैं तो कई गाँव चारोतरफ से पानी से घिरा है इसलिए खुद डीएम और एसपी बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में कभी नाव से तो कभी मोटरसाइकल से ही निकल परते हैं राहत कार्य का जायेजा लेने | दिन हो या रात पूर्णिया एसपी और डीएम इस आफ़त के घड़ी में न सिर्फ लोगो के बीच जाकर लोगों की मदद कर रहें बल्कि राहत कैम्पों में उनके साथ बैठ खाना भी खा रहे हैं |

कल डीएम और एसपी ने एक साथ पुर्णिया के बैयसी, अमौर और रौता मोटर साइकल से गए और रात को सामूहिक भोजनालय में लोगों के साथ भोजन किया साथ ही स्वास्थ कैंप में जाकर वहां के स्थिति का जायेजा लियें| दो जगह तेजी से पुल बनाये जा रहें है | रोड के मरम्मत का काम दिन रात जारी है | अमौर पुल पर कम से कम बाईक जाने लायक व्यवस्था की गयी ताकि आवा-जाही चालू हो सके |

 

ज्ञात हो की बिहार में बाढ़ का कहर लगातार जारी है| सूबे की सभी नदियां उफान पर है. बाढ़ के कहर से बिहार के 17 जिले बुरी तरह से प्रभावित हैं. बाढ़ से बिहार के 156 प्रखंड के 1688 पंचायत के लोगों की जान खतरे में है| बाढ़ से बिहार में अब तक 155 लोगों की मौत हो चुकी है|

आपदा प्रबंधन विभाग ने जो आंकड़ें जारी किये हैं उसके मुताबिक किशनगंज में 11, अररिया में 30, पूर्णिया में 9 लोगों की मौत हुई है. कटिहार में सात, पूर्वी चंपारण में, पश्चिमी चंपारण में 23, दरभंगा में 4, मधुबनी में 8 लोगों की मौत हुई है| दूसरी ओर सीतामढ़ी में 13, शिवहर में 3, सुपौल में 11 लोगों की मौत बाढ़ के कारण हो चुकी है|

बाढ़ से मरने वालों में मधेपुरा में 9, मुजफ्फरपुर में एक,सारण में 2 लोग भी शामिल हैं. जबकि गोपालगंज में चार, सहरसा में 4, खगड़िया में 3 लोगों की मौत हुई है|आपदा प्रबंधन विभाग ने जो सूचना जारी की है उसके मुताबिक बिहार के 1.8 करोड़ लोग बाढ़ से प्रभावित हैं|

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: