एशिया पैसिफिक एक्सचेंज चैलेंज के लिए चयनित हुआ बिहार का यह लाल

बिहार के एक छोटे से गाँव से निकल, उद्यमिता के दम से खुद को साबित करते हुए अपने शहर और गाँव में उम्मीद की किरण लाने वाले इस शख्स की कहानी हम सभी के लिए प्रेरणा का स्रोत हो सकती है। स्कूल से फी न भरने के कारण निकाले जाने के बाद उसी स्कूल में 12वीं में स्कूल में सर्वोच्च स्थान प्राप्त करना इस युवा की जीवटता और कठिन परिश्रम से कुछ कर दिखाने के जज्बे को दर्शाता है।

 

रंजन मिस्त्री एक सोशल एंटरप्रेन्योर हैं। ये ग्रामीण इलाके में विश्वस्तरीय प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराने के लिए कार्यरत हैं।

2016 में ‘Plant Eco Circle’ की शुरुआत के साथ इनकी एंटरप्रेन्योर बनने की यात्रा शुरू हुई, जिसके जरिये ये युवाओं को अपने वातावरण के लिए एक स्वच्छ माहौल बनाने के लिए प्रेरित करते हैं। रंजन बताते हैं कि ‘PlaNt Eco Circle’ प्रत्येक गाँव को अपनी आजीविका में सुधार करने के लिए सशक्त बनाने के लिए एक मंच है। ग्रामीणों की स्थिति में सुधार के लिए इन्होंने तीन प्लेटफार्म विकसित किये हैं- ‘Vriksha’, Aadhayan और Teach2Learn।

रंजन मिस्त्री

छकौड़ी बिघा, गया (बिहार) के मूल निवासी रंजन मिस्त्री पटना में रहते हैं, गाँव के सामाजिक और शैक्षिक माहौल को व्यवस्थित करने के लिए काम कर रहे हैं और इसे ही स्टार्ट अप के तौर पर स्थापित कर रहे हैं।

अपनी उपलब्धियों के दम से एशिया पैसिफिक एक्सचेंज चैलेंज के लिए चयनित ये बिहार से एकलौते शख्स हैं, जो 11 से 22 जुलाई 2017 तक मनिला(फिलीपींस) में आयोजित होगा। जिसके तहत उन्हे 50% की स्कोलरशिप दिया जा रहा है । हालांकि शेष 50% शुल्क भी रंजन दे पाने में भी असमर्थ है इसलिए लोगों से अपील कर अपने साइट www.bitgiving.com/bihartomanila के जरिए शेष फंड जुटाने के लिए प्रयासरत है ।

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: