नारी सशक्तिकरण की मिसाल है बिहार के रोसड़ा की बहू शूटर दिव्या..

रोसङा की बहू दिव्या

बिहार के रोसड़ा की बहू शूटर दिव्या आर्मी कैंप में मेजर के पद कार्यरत हैं।दिव्या देश की सुरक्षा में अहम भूमिका निभा रही है.इस मेजर बहू पर पुरे बिहार के लोग गौरवान्वित हैं.वहीं दूसरी ओर दिव्या नारी सशक्तिकरण के लिए एक मिसाल बनकर देश के लिए अतुलनीय योगदान दे रही है।

 

दिव्या को खेल में भी काफी रूचि रखती है उन्होंने साउथ एशियन गेम समेत कई राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर के खेल एवं प्रतियोगिता में गोल्ड एवं सिल्वर मेडल जीतकर देश को गौरवान्वित कर चुकी है।

रोसड़ा के डॉ गौरी शंकर प्रसाद सिंह की पुत्र वधू एवं लेफ्टिनेंट कर्नल कुमार धर्मवीर की धर्मपत्नी दिव्या सिंह वर्तमान में जम्मू के नगरोटा आर्मी कैंप हेड क्वार्टर में मेजर के पद पर कार्यरत हैं।

दिव्या लड़कियों को अपने स्तर से हर तरह से मदद करने के लिए हाथ बढ़ाना चाह रही है।

दिव्या सबसे पहले कश्मीर में आर्मी कैंप में लेफ्टिनेंट के पद पर चुनी गई.उसके बाद देहरादून में कैप्टन बनी.फिर अरुणाचल के टेंगा आर्मी कैंप एवं जम्मू में मेजर के पद को सुशोभित कर रही है.वह पिस्टल शूटिंग में गोल्ड मैडल जीतकर देश का गौरव ऊंचा कर चुकी है।

 

कई बार चैंपियनशिप बन चुकी है दिव्या:-

1. वर्ष 2007 में थर्ड जनरल जे जे सिंह शूटिंग कंपटीशन मे 10 मीटर एयर पिस्टल में गोल्ड मेडल हासिल कर कॉम्बेट फोर्सेज शूटिंग चैंपियनशिप बनी.

2. वर्ष 2008 में 8 इंच ऑल इंडिया जीवी मावलंकर शूटिंग चैंपियनशिप बनी जिसमें 25 मीटर स्पोर्ट्स पिस्टल में न्यू चैंपियनशिप रिकॉर्ड कायम करते हुए गोल्ड मेडल हासिल की.वहीं 10 मीटर एयर पिस्टल प्रतियोगिता में भी गोल्ड मेडल हासिल की.

3. 43 वीं मिलिट्री शूटिंग चैंपियनशिप अगस्त 2008 में पार्टिसिपेट की.

4. 52 वी एवं 53 वी नेशनल शूटिंग चैंपियनशिप जनवरी 2009 एवं दिसंबर 2009 में पार्टीसिपेट की.

5. वर्ष 2010 में ढाका में आयोजित एक आर्मी साउथ एशियन गेम्स में इंडियन नेशनल टीम की ओर से पार्टीसिपेट की.जिसमें 25 मीटर स्पोर्ट्स पिस्टल प्रतियोगिता में टीम को गोल्ड मैडल मिला एवं 25 मीटर स्पोर्ट्स पिस्टल इंडिविजुअल में सिल्वर हासिल की.

6. फरवरी 2011 में रांची में आयोजित 34 वीं नेशनल गेम्स में 25 मीटर स्पोर्ट पिस्टल में 6 वां पोजीशन हासिल की.

7.ब्राजील के रियो डी जेनेरियो में जुलाई 2011 में आयोजित 5 वीं वर्ल्ड मिलिट्री गेम में अपनी शॉट का लोहा मनवाते हुए मिलिट्री रैपिड फायर पिस्टल में बेस्ट स्कोर बनाई.

8.अगस्त 2011 में पुणे में आयोजित 11 वीं केएसएस शूटिंग चैंपियनशिप में 25 मीटर स्पोर्ट्स पिस्टल में गोल्ड मेडल हासिल की.

9.55 वीं नेशनल शूटिंग चैंपियनशिप कंपटीशन 2011 में 25 मीटर स्पोर्ट्स पिस्टल प्रतियोगिता में सिल्वर मेडल हासिल की.

10.जून 2011में पुणे में आयोजित केएसएस नेशनल शूटिंग चैंपियनशिप में पार्टीसिपेट कर 25 मीटर स्पोर्ट्स पिस्टल में गोल्ड मेडल हासिल की.

11.14 से 24 नवंबर 2011 तक आयोजित नेशनल शूटिंग चैंपियनशिप में कैप्टन दिव्या सिंह ने 25 मीटर स्पोर्ट्स पिस्टल में सिल्वर मेडल हासिल की।

अपनी पुत्रवधू मेजर दिव्या सिंह की लगातार सफलता एवं देश की सेवा में लीन रहने को लेकर डॉ गौरी शंकर प्रसाद सिंह काफी गौरवान्वित हैं.उन्हें अपने पुत्र लेफ्टिनेंट कर्नल कुमार धर्मवीर एवं पुत्र वधू पर देश के दुश्मनों के छक्के छुड़ा देने को लेकर गर्व है।

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: