जापानी श्यामा जो अपनी प्रतिभा से पिता के सपने को पुरा करने पहुंची पटना


पटना पुस्तक मेले में कलाकार अपनी प्रतिभा का जबरदस्त प्रदर्शन कर रहे हैं, जिससे बिहार के पहचान में चार चांद लग रहा है।लेकिन इस मेले में एक ऐसी भी बेटी है जापानी श्यामा जो अपनी प्रतिभा से पिता के सपने को पुरा करने पहुंची है।
जबलपुर के पास के पाटनगढ़ की रहने वाली जापानी श्यामा पटना पुस्तक मेले में गोड़ पेंटिग पहुंची है। आदिवासी समुदाय की श्यामा के पिता जनगड़ सिंह श्याम गोड़ पेंटिंग के जन्मदाता माने जाते हैं।उन्होंने अपनी प्रतिभा से देश से लेकर विदेशों तक अपनी कला का परचम लहराया।जिसकें बाद उन्हें कला के क्षेत्र में कई तरह का सम्मान भी मिला है।
श्यामा ने बताया कि- पिता की असमय मृत्यु हो जाने पर उसने यह ठान लिया कि उनकी कला को व्यर्थ नहीं जाने देगी वह अपनी पिता की कला को निरन्तर जीवित रखेगी।
इस काम में मां और भाई भी जुड़े हैं। मैंने अपना पूरा जीवन इस कला के नाम लिख दिया है।

जापानी की पेंटिग पटना में खूब पसंद की जा रही है। मेड इन इंडिया की तरफ से जापानी पहली बार बिहार आई है। मेड इन इंडिया के सीईओ प्रशांत कहते हैं कि हम ग्रामीण क्षेत्र की कला को लोगों तक पहूंचाना चाहते हैं।

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: