350वें प्रकाश पर्व का मुख्य समारोह आज

पटना में प्रकाशोत्सव की धूम मची हुई है। गुरु गोविंद सिहंजी महाराज के 350वीं जयंती की भव्य तैयारी हुई है। देश-विदेश से लाखों की संख्या में लोग पटना पहुंचे है।

img_20161223_163620

हर-तरफ इस बात की चर्चा हो रही है कि 350वां प्रकाशोत्सव ऐतिहासिक होगा। वैसे प्रकाशोत्सव पटना में पहली बार नहीं हो रहा है। दरअसल किसी भी सिख गुरु साहिब का शताब्दी मनाने की परंपरा की शुरुआत तख्तश्री पटना साहिब से ही शुरू हुई। इसकी शुरुआत बात 28 जनवरी 1967 से शुरु हई, जब सिखों के अंतिम देहधारी गुरु श्री गुरु गोविंद सिंह जी महाराज का 300वां प्रकाश पर्व शताब्दी के रूप में मनाया गया था। इसी के बाद अन्य गुरु साहिबानों का शताब्दी मनाने की परंपरा की शुरुआत हुई। लेकिन इस बार की बात कुछ अलग है। देश-विदेश से बड़ी संख्या में संगत आई है। पहली बार पटना साहिब की धरती पर आधा दर्जन स्थानों पर टेंटसिटी बना है। सड़क, गली, चौक-चौराहों को रंगीन रोशनी से रौशन किया गया है। अनेक वीवीआईपी का आगमन हो रहा है। प्रशासन की ओर से कोई कोर-कसर नहीं छोड़ा गया है।

15823418_955111807955336_7360192161093299044_n

वही तख्तश्री पटना साहिब के जत्थेदार सिंह साहिब भाई इकबाल सिंह का कहना है कि गैर-सिखों की भीड़ और गुरु महाराज के प्रति लगाव के साथ सिख परंपराओं का निवर्हन, वाकई एकता और भाईचारा की मिसाल पेश कर रहा है। बिहार के बाहर अन्य प्रदेशों और विदेशों में बिहार की जो गलत छवि थी, उसे इस 350वां प्रकाश पर्व ने पूरी तरह से धो डाला है।

15823714_954885981311252_1962626101902794041_n

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: