मेट्रो ही नहीं बल्कि बिहार में चलेगा स्काई ट्रेन ..


देश में पहली बार बिहार में दौड़ेगी स्काई ट्रेन। सरकार बुद्ध सर्किट से जुड़े शहरों को जोडऩे के लिए इस प्रोजेक्ट का इस्तेमाल करना चाह रही है। नगर विकास एवं आवास विभाग ने इस दिशा में कदम आगे बढ़ा दिए हैं। पहले चरण में पटना से गया, बोधगया, राजगीर, वैशाली, केसरिया, अरेराज, लौरिया जैसे छोटे शहर जुड़ेंगे।

बिहार सरकार के सात निश्चयों में से एक निश्चय तीव्र गति से बिहार के किसी भी कोने से पटना पहुंचना भी है। इस रास्ते को तय करने के लिए मुख्यमंत्री ने पांच घंटे का समय निर्धारित किया है। इस मामले में स्काई ट्रेन एक क्रांतिकारी कदम साबित हो सकती है।
यह पहल जिला मुख्यालयों को पटना को 240 से 260 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से जोड़ेगी। इसकी लागत भी मेट्रो या मेमो ट्रेन से कम होगी। जल्द ही नगर विकास एवं आवास विभाग इस प्रोजेक्ट की तकनीकी जांच कराएगा।

पोल के सहारे चलने वाली स्काई ट्रेन छोटी-छोटी बोगियों का समूह होगी। एक बोगी में चार लोग बैठ सकेंगे। इसके निर्माण के लिए ज्यादा भूमि अधिग्रहण की जरूरत नही होगी। प्रदूषण का भी झमेला नहीं है।

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: