बिहारी विशेषता

संतानों के लंबी उम्र के लिए एक दिन का निर्जला उपवास रखती हैं माताएँ

आज सारी माताएँ व्रत में हैं| जीवित पुत्रिका व्रत जो है आज| क्या कुछ नहीं करतीं माएँ अपने बच्चों के सुंदर, आरामदायक जीवन और लम्बी उम्र के लिए| पूत कपूत भले हो जाएँ, माता कुमाता नहीं हो सकती| माँ का स्थान यूँ ही भगवान् से ऊपर का नहीं होता| माँ किसी मायने में भगवान से कम नहीं| अगर बच्चों की तकदीर माँ लिखने लगे तो इस दुनिया में दुःख के लिए कोई जगह ही न रहे, जीवन का स्वाद माँ के हाथ की रोटियों सा हो जाये|

आज का दिन सारी माताएँ अपने बेटों के उज्ज्वल भविष्य और लम्बी आयु के लिए मनाती हैं| दिन भर निर्जला व्रत और फिर शाम में पूजा अर्चना| यु.पी.-बिहार में प्रचलित ये त्यौहार कई मायने में माँ-बेटे के रिश्ते की प्रगाढ़ता का प्रदर्शित करता है| माताएँ ‘ज्युतिया (जीवत्पुत्रिका)’ की आकृति को धागे में गढ़ के, उसकी पूजा कर के गले में धारण करती हैं|

मान्यताओं के अनुसार यह व्रत सतयुग से होता आया है| इसे माँ अपनी संतान के दीर्घायु होने के लिए करती है| यह व्रत सप्तमी रहित और उदयातिथि की अष्टमी को किया जाता है, तथा नवमी को पारण| सप्तमी विद्ध अष्टमी को किया गया व्रत फलदायी नहीं होता| कथा स्पष्ट करती है कि इस व्रत में त्रैलोक्य से पूजित दुर्गा अमृत प्राप्त करने के अर्थ में ‘जीवत्पुत्रिका’ कहलायी हैं| सो इस तिथि को स्त्रियाँ उस जीवत्पुत्रिका की और कुश की आकृति बनाकर पूजा करती हैं|

हमारे देश-प्रदेश में कई समाज ऐसे भी थे जहाँ सिर्फ पुत्रों के दीर्घायु होने के लिए ही यह व्रत किया जाता था| लेकिन गर्व की बात है, कुछ महिलाओं ने पुत्रियों के लिए भी व्रत करना शुरू किया है| माताएँ अगर रूढ़िवादी परम्पराएँ तोड़ सकती हैं तो सिर्फ सपनी संतान के लिए| सही मायने में ज्युतिया या जीवित पुत्रिका व्रत ही हिन्दू समाज का मातृत्व दिवस है|

Facebook Comments
Share This Unique Story Of Bihar with Your Friends
Profile photo of नेहा नूपुर
नेहा नूपुर
पलकों के आसमान में नए रंग भरने की चाहत के साथ शब्दों के ताने-बाने गुनती हूँ, बुनती हूँ। In short, कवि हूँ मैं @जीवन के नूपुर और ब्लॉगर भी।
http://www.nehanupur.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.