भारत का पहला हैप्पीनेस जंक्शन बना बिहार का सोनपुर जंक्शन

अगर आपको बिहार के एक स्टेशन पर यह सुनाई दे कि, यात्रीगण कृपया ध्यान दें, देश के पहले हैपीनेस जंक्शन पर आपका स्वागत है। यह सुनकर आप चौंकिएगा नहीं, दरअसल आप बिहार के सोनपुर जंक्शन पर खड़े हैं जिसे देश का पहला रेलवे स्टेशन बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है।देश का पहला रेलवे स्टेशन बना सोनपुर जिसे हैप्पीनेस जंक्शन का दर्जा दिया गया।भारतीय रेल ने कुछ अलग मकसद से पहले हैप्पीनेस जंक्शन के लिए सोनपुर रेलवे स्टेशन को चुना है. मंगलवार को सोनपुर मंडल के रेल अधिकारियों ने सोनपुर स्टेशन पर इसकी शुरुआत की।

क्या है हैपीनेस जंक्शन

सोनपुर रेल मंडल के अधिकारियों ने सोनपुर स्टेशन पर एक बोर्ड लगाया है जिसपर लिखा है – हैप्पीनेस जंक्शन। बोर्ड पर लिखा हुआ है आप अपनी जरुरत का कोई भी सामान यहां से ले जा सकते हैं। साथ ही ये भी लिखा हुआ है कि जो सामान आपके काम की नहीं है या फिर जरूरत से अधिक है तो उसे आप यहां पर छोड़ सकते हैं।

सोनपुर रेल मंडल के सीनियर डीसीएम दिलीप कुमार ने बताया कि हैप्पीनेस जंक्शन की शुरुआत के पीछे सोच ये है कि जरूरतमंद लोगों को मदद पहुंचाना। उन्होंने बताया कि हैप्पीनेस जंक्शन में निर्धारित जगह पर जरूरतमंद लोग अपने उपयोग की सामान बेझिझक ले सकते हैं और जरूरतमंद लोगों को मदद पहुंचाने वाले व्यक्ति अपने सामानों को वहीं छोड़ भी सकते हैं।

उन्होंने बताया कि लोगों को देश-दुनिया की खबरों से रु-बरु कराने के लिए पत्र-पत्रिकाओं का भी बोर्ड लगाया गया है। समाचार जानने या फिर अखबार या मैग्जीन पढ़ने के इच्छुक लोग पत्र-पत्रिका को बोर्ड पर से लेकर पढ़ सकते हैं और पढ़ने के बाद उसे यथास्थान रख भी देंगे।

किसी के चेहरे पर खुशी दिखे, यही है सोच
हैप्पीनेस जंक्शन की शुरुआत करते हुए सोनपुर रेल मंडल के डीआरएम मनोज कुमार अग्रवाल ने कहा कि यदि हमारे अनुपयोगी सामानों का उपयोग करने से किसी व्यक्ति के चेहरे पर खुशी आ जाती है तो इससे बड़ा पुण्य कुछ नहीं हो सकता।
उन्होंने कहा कि यह पहल पूरे भारतीय रेलवे में सबसे पहले सोनपुर मंडल द्वारा की जा रही है। आशा है कि जनमानस से सराहना मिलेगी। उन्होंने कहा कि इसके बाद मुजफ्फरपुर स्टेशन को हैप्पीनेस जंक्शन बनाया जाएगा।

भारत का पहला हैप्पीनेस जंक्शन बना बिहार का सोनपुर जंक्शन

अगर आपको बिहार के एक स्टेशन पर यह सुनाई दे कि, यात्रीगण कृपया ध्यान दें, देश के पहले हैपीनेस जंक्शन पर आपका स्वागत है। यह सुनकर आप चौंकिएगा नहीं, दरअसल आप बिहार के सोनपुर जंक्शन पर खड़े हैं जिसे देश का पहला रेलवे स्टेशन बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है।देश का पहला रेलवे स्टेशन बना सोनपुर जिसे हैप्पीनेस जंक्शन का दर्जा दिया गया।भारतीय रेल ने कुछ अलग मकसद से पहले हैप्पीनेस जंक्शन के लिए सोनपुर रेलवे स्टेशन को चुना है. मंगलवार को सोनपुर मंडल के रेल अधिकारियों ने सोनपुर स्टेशन पर इसकी शुरुआत की।

क्या है हैपीनेस जंक्शन

सोनपुर रेल मंडल के अधिकारियों ने सोनपुर स्टेशन पर एक बोर्ड लगाया है जिसपर लिखा है – हैप्पीनेस जंक्शन। बोर्ड पर लिखा हुआ है आप अपनी जरुरत का कोई भी सामान यहां से ले जा सकते हैं। साथ ही ये भी लिखा हुआ है कि जो सामान आपके काम की नहीं है या फिर जरूरत से अधिक है तो उसे आप यहां पर छोड़ सकते हैं।

सोनपुर रेल मंडल के सीनियर डीसीएम दिलीप कुमार ने बताया कि हैप्पीनेस जंक्शन की शुरुआत के पीछे सोच ये है कि जरूरतमंद लोगों को मदद पहुंचाना। उन्होंने बताया कि हैप्पीनेस जंक्शन में निर्धारित जगह पर जरूरतमंद लोग अपने उपयोग की सामान बेझिझक ले सकते हैं और जरूरतमंद लोगों को मदद पहुंचाने वाले व्यक्ति अपने सामानों को वहीं छोड़ भी सकते हैं।

उन्होंने बताया कि लोगों को देश-दुनिया की खबरों से रु-बरु कराने के लिए पत्र-पत्रिकाओं का भी बोर्ड लगाया गया है। समाचार जानने या फिर अखबार या मैग्जीन पढ़ने के इच्छुक लोग पत्र-पत्रिका को बोर्ड पर से लेकर पढ़ सकते हैं और पढ़ने के बाद उसे यथास्थान रख भी देंगे।

किसी के चेहरे पर खुशी दिखे, यही है सोच
हैप्पीनेस जंक्शन की शुरुआत करते हुए सोनपुर रेल मंडल के डीआरएम मनोज कुमार अग्रवाल ने कहा कि यदि हमारे अनुपयोगी सामानों का उपयोग करने से किसी व्यक्ति के चेहरे पर खुशी आ जाती है तो इससे बड़ा पुण्य कुछ नहीं हो सकता।
उन्होंने कहा कि यह पहल पूरे भारतीय रेलवे में सबसे पहले सोनपुर मंडल द्वारा की जा रही है। आशा है कि जनमानस से सराहना मिलेगी। उन्होंने कहा कि इसके बाद मुजफ्फरपुर स्टेशन को हैप्पीनेस जंक्शन बनाया जाएगा।

भारत का पहला हैप्पीनेस जंक्शन बना बिहार का सोनपुर जंक्शन

अगर आपको बिहार के एक स्टेशन पर यह सुनाई दे कि, यात्रीगण कृपया ध्यान दें, देश के पहले हैपीनेस जंक्शन पर आपका स्वागत है। यह सुनकर आप चौंकिएगा नहीं, दरअसल आप बिहार के सोनपुर जंक्शन पर खड़े हैं जिसे देश का पहला रेलवे स्टेशन बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है।देश का पहला रेलवे स्टेशन बना सोनपुर जिसे हैप्पीनेस जंक्शन का दर्जा दिया गया।भारतीय रेल ने कुछ अलग मकसद से पहले हैप्पीनेस जंक्शन के लिए सोनपुर रेलवे स्टेशन को चुना है. मंगलवार को सोनपुर मंडल के रेल अधिकारियों ने सोनपुर स्टेशन पर इसकी शुरुआत की।

क्या है हैपीनेस जंक्शन

सोनपुर रेल मंडल के अधिकारियों ने सोनपुर स्टेशन पर एक बोर्ड लगाया है जिसपर लिखा है – हैप्पीनेस जंक्शन। बोर्ड पर लिखा हुआ है आप अपनी जरुरत का कोई भी सामान यहां से ले जा सकते हैं। साथ ही ये भी लिखा हुआ है कि जो सामान आपके काम की नहीं है या फिर जरूरत से अधिक है तो उसे आप यहां पर छोड़ सकते हैं।

सोनपुर रेल मंडल के सीनियर डीसीएम दिलीप कुमार ने बताया कि हैप्पीनेस जंक्शन की शुरुआत के पीछे सोच ये है कि जरूरतमंद लोगों को मदद पहुंचाना। उन्होंने बताया कि हैप्पीनेस जंक्शन में निर्धारित जगह पर जरूरतमंद लोग अपने उपयोग की सामान बेझिझक ले सकते हैं और जरूरतमंद लोगों को मदद पहुंचाने वाले व्यक्ति अपने सामानों को वहीं छोड़ भी सकते हैं।

उन्होंने बताया कि लोगों को देश-दुनिया की खबरों से रु-बरु कराने के लिए पत्र-पत्रिकाओं का भी बोर्ड लगाया गया है। समाचार जानने या फिर अखबार या मैग्जीन पढ़ने के इच्छुक लोग पत्र-पत्रिका को बोर्ड पर से लेकर पढ़ सकते हैं और पढ़ने के बाद उसे यथास्थान रख भी देंगे।

किसी के चेहरे पर खुशी दिखे, यही है सोच
हैप्पीनेस जंक्शन की शुरुआत करते हुए सोनपुर रेल मंडल के डीआरएम मनोज कुमार अग्रवाल ने कहा कि यदि हमारे अनुपयोगी सामानों का उपयोग करने से किसी व्यक्ति के चेहरे पर खुशी आ जाती है तो इससे बड़ा पुण्य कुछ नहीं हो सकता।
उन्होंने कहा कि यह पहल पूरे भारतीय रेलवे में सबसे पहले सोनपुर मंडल द्वारा की जा रही है। आशा है कि जनमानस से सराहना मिलेगी। उन्होंने कहा कि इसके बाद मुजफ्फरपुर स्टेशन को हैप्पीनेस जंक्शन बनाया जाएगा।