बिहार के विकास कुमार ने आर्या वेब सीरीज में अपने एक्टिंग से किया सबको प्रभावित

1998 में उनका पहला टेलीविज़न शो "C.I.D" था जिसमें उन्होंने वरिष्ठ निरीक्षक रजत की भूमिका निभाई थी

ओटीटी प्लेटफॉर्म पर इंटरनेंटमेंट जारी है और लगातार लेटेस्ट कंटेंट बढ़ता जा रहा है। अंग्रेजी के साथ हिंदी में भी वेबसीरीज की भरभार है, जो लोगों को बहुत पसंद आ रही है। इन दिनों ओटीटी प्लेटफॉर्म पर कई हिंदी वेबसीरीज भी रिलीज हुई है, जो वीकेंड पर आपके लिए इंटरटेनमेंट की कमी नहीं होने देंगे। ऐसे ही एक सीरीज ‘आर्या’ जो  डिज्नी- हॉटस्टार पर दिखाई जा रही है। वेब सीरीज को पॉवर-पैक कहानी के लिए आलोचकों से काफी सराहना मिल रही है।

डिज़्नी प्लस हॉटस्टार की वेब सीरीज़ आर्या में एक्ट्रेस सुष्मिता सेन अहम भूमिका में हैं। सुष्मिता ने इसमें एक लेडी डॉन का किरदार निभाया है। सुष्मिता ने आर्या के ज़रिए 5 साल बाद अभिनय की दुनिया में वापसी की है।आर्या डच टीवी सीरीज़ पेनोज़ा का आधिकारिक रीमेक है। सीरीज़ से विकास कुमार ने भी अभिनय जगत में वापसी की है। इसे काफी पसंद किया जा रहा है।

सुष्मिता के अलावा, जिन्होंने एक दशक के बाद लगभग वापसी की है, एक और चरित्र है जो दर्शकों और आलोचकों का ध्यान आकर्षित कर रहा है। यह किरदार एसीपी खान का है, जिसे विकास कुमार ने निभाया है। खान एक पुलिस वाले की भूमिका निभाता है। एसीपी खान का चरित्र पूरी श्रृंखला में खूबसूरती से दिखाया गया है। पहले एपिसोड से ही, उन्हें विरोधी  के रूप में दिखाया गया है। 

एक इंटरव्यू में, विकास, जो कि आर्या में एक समलैंगिक चरित्र का चित्रण करते हुए नज़र आए है, उन्होंने कहा की, “मुझे चरित्र लिखने का तरीका पसंद आया। हालांकि, एसीपी खान समलैंगिक हैं। हालाँकि सीरीज में किरदार का बहुत अच्छे से अभिनिये किया है। उन्होंने कहा की यह सीरीज में एलजीबीटी समुदाय के लिए चीजों को सामान्य दिखाया हैं। किसी की कामुकता उसकी पहचान नहीं हो सकती। यहाँ, खान की पहचान ‘समलैंगिक’ नहीं बल्कि ‘पुलिस’ है। 

विकास कुमार के बारे में कुछ सुनी – अनसुनी  बातें 

विकास कुमार एक भारतीय संवाद कोच और फिल्म और टेलीविजन अभिनेता हैं। उनका जन्म 18 मई, 1977 को बिहार के गया में हुआ था। उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा वेल्हम बॉयज़ स्कूल से की है। उनके पिता का नाम बिहार शरीफ है जो की एक डॉक्टर हैं। उन्होंने पिछले 10 सालों से टेलीविजन और फिल्म उद्योग में अपनी पहचान बनाई है। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत बतौर डायलॉग कोच की थी।

कुमार ने अभिनय में भी हाथ आजमाया है। 1998 में उनका पहला टेलीविज़न शो “C.I.D” था जिसमें उन्होंने वरिष्ठ निरीक्षक रजत की भूमिका निभाई थी। उनका दूसरा शो 2011 में “खोती सिककी” था जिसमें उन्होंने वरिष्ठ निरीक्षक दामोदर देशमुख की भूमिका निभाई थी। यह भी एक क्राइम सीरीज थी। उनका तीसरा टेलीविजन शो “पाउडर” है जो 2010 में शुरू हुआ था। उन्होंने उमेश जगदाले की भूमिका निभाई थी। यह शो यंगस्टर्स-ड्रग्स के बीच की नई लत के बारे में था।

जब विकास कुमार से एक इंटरव्यू में पूछा गया कि उन्होंने इस पेशे को कैसे अपनाया, तो उन्होंने कहा, “मैं कहूंगा कि यह भगवान की इच्छा थी। जब मैं भूमिकाओं के लिए ऑडिशन दे रहा था, तो ज्यादातर समय मैं अपने लुक के कारण रिजेक्ट हो जाता था । लेकिन अच्छी बात यह थी कि जिसने भी मेरे ऑडिशन देखे हमेशा कहा कि मेरी डायलॉग डिलीवरी काफी अच्छी है।

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: