जम्मू कश्मीर से लौटे प्रवासी, बिहार में लगाई क्रिकेट बैट की फैक्ट्री

इस फैक्ट्री की स्थापना एक महीने पहले की गई थी, और शुरुवात 50 बैट बनने से हुई थी

कोरोना वायरस के चलते काफी लोगों को अपने रोजगार से हाथ धोना पड़ा। इसका सबसे ज्यादा असर प्रवासी मजदूरों पर देखने को मिला है। देश भर से लौटे प्रवासी मजदूरों को रोजगार के लिए इधर उधर भटकना पड़ रहा हैं। ऐसे में जम्मू कश्मीर से लौटे कुछ प्रवासियों ने अपने रोजगार के लिए क्रिकेट बैट बनाने की फैक्ट्री का निर्माण किया है।

बिहार के पश्चिम चंपारण जिले के सहोदरा गांव में इस फैक्ट्री का निर्माण किया गया है। जो की पटना से लगभग 280 किलोमीटर उत्तर में स्थित है। जम्मू कश्मीर के अनंतनाग जिले से लौटे लगभग 10 प्रवासी श्रमिकों ने इस फैक्ट्री का निर्माण किया है।

इस फैक्ट्री की स्थापना एक महीने पहले की गई थी, और शुरुवात 50 बैट बनने से हुई थी। अब श्रमिक प्रत्येक बैट को 800 में बेचते हैं|

जम्मू कश्मीर में 8 साल तक काम करने वाले आलम ने कहा

8 साल तक वहां काम करने वाले आलम कहते हैं,” अनंतनाग और अवंतीपोरा में, हम एक दिन में सात से दस कश्मीरी विलो बैट बनाया करते थे । यह बैट खास तौर पर सचिन तेंदुलकर और धोनी जैसे दिगगजों के लिए बनाए जाते थे।”

” हालंकि कश्मीर में उपकरणों की कमी और सुखी लकड़ी की अनुपलब्धता के कारण हमरा काम बहुत कम चलता था। लेकिन पश्चिम चंपारण क्षेत्र में काम बढ़ने की क्षमता है। “पश्चिम चंपारण क्रिकेट के बैट बनाए के लिए एक केंद्र के रूप में उभर सकता है क्योंकि चिनार का पेड़, जिले में बहुतायत में देखा जाता है।

क्या कहते हैं सरकारी अधिकारी

श्रमिकों ने वित्तीय सहायता के लिए अधिकारियों से भी संपर्क किया हैं। राजू रंजन श्रीवास्तव, गौनाहा ब्लॉक के अधिकारी ने कहा ” हम बैट के ढांचे से खुश है। हम उन्हें आवश्यक वित्तीय सहायता प्रदान करेंगे।

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: