बिहार खादी के ब्रांड एंबेसडर बने बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता पंकज त्रिपाठी

देश में बिहार खादी की एक खास पहचान है मगर इसके ब्रांडिंग, तकनीक की कमी और बाजार से सीधे जुड़ाव न होने के कारण इसको काफी नुकसान हुआ है

बिहार खादी उद्योग को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार ने एक बहुत महत्वपूर्ण फैसला लिया है| बॉलीवुड के नामी अभिनेता और बिहार के गोपालगंज के रहने वाले पंकज त्रिपाठी को बिहार की खादी का ब्रांड एंबेसडर बनाया गया है| राज्य के उद्योग मंत्री श्याम रजक ने बताया कि बिहार उद्योग विभाग की ओर से पंकज त्रिपाठी को प्रस्ताव भेजा गया था, जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया है| अब वह बिहार की खादी का प्रचार-प्रसार करेंगे|

देश में बिहार खादी की एक खास पहचान है मगर इसके ब्रांडिंग, तकनीक की कमी और बाजार से सीधे जुड़ाव न होने के कारण इसको काफी नुकसान हुआ है| राज्य सरकार के इस फैसले के बाद इसके ब्रांडिंग और प्रचार में काफी मदद मिलेगी|

ज्ञात हो कि पंकज त्रिपाठी अपने दमदार अभिनय के लिए जाने जाते हैं| देश में उनको चाहने वाले की काफी संख्या है| उनकी लोकप्रियता और उनकी भरोसेमंद छवि का फायदा बिहार के खादी उद्योग को मिल पायेगा|


यह भी पढ़ें: पंकज त्रिपाठी – एक वेटर की नौकरी से राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिलने तक का सफर


त्रिपाठी ने बताया – “कि मेरे लिए इससे ज़्यादा खुशी और गर्व की बात क्या होगी कि बिहार का उद्योग विभाग मुझे बिहार में बने खादी का ब्राण्ड एम्बेसडर बनाना चाहता है| मैं शुरू से ही खादी का शौकीन रहा हूं| अब उसी खादी की पहचान मेरे मार्फत देश और दुनिया में हो तो इससे ज़्यादा खुशी की बात और क्या होगी|

बिहार की मधुबनी खादी पुरे देश में प्रसिद्ध है

बिहार राज्य खादी ग्रामोद्योग बोर्ड, बिहार उद्योग विभाग की एक संस्था है| यह बिहार में खादी वस्त्रों के उत्पादन एवं विपणन के लिए विभिन्न योजनाओं को क्रियान्वित करती है| बिहार राज्य खादी बोर्ड खादी वस्त्र के नये-नये डिजाइन तैयार कर रहा है| उसी के अनुरूप बिहार के खादी संस्थान भी खादी वस्त्रों का उत्पादन कर रहे हैं| बिहार की मधुबनी खादी पुरे देश में प्रसिद्ध है| इसको देश भर में प्रमोट किया जा रहा है| इसके अलावा राजधानी पटना में हाल ही में देश का सबसे बड़ा खादी मॉल भी खुला है|

यह भी पढ़ें: शानदार अभिनय के दम से सबके दिल में बसते हैं ये बिहारी अभिनेता

 

 

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: