अमेरिकी राष्ट्रपति की बेटी इवांका ट्रंप भी बिहार के ज्योति से हुई प्रभावित, की तारीफ

यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी ज्योति को एक लाख रूपये देकर मदद करने की घोषणा की

अपने घायल पिता को साईकिल पर बैठाकर गुरुग्राम से दरभंगा के बीच 1200 किलोमीटर का सफ़र मात्र 7 दिन में तय कर लेने वाली बिहार की ज्योति की हर तरफ तारीफ हो रही है| ज्योति के इस असाधारण कार्य की चर्चा सिर्फ देश ही में नहीं बल्कि विदेशों में भी हो रही है| कक्षा 8 में पढ़ने वाली दरभंगा के मोहन पासवान की बेटी ज्योति कुमार दुनिया के सबसे ताकतवर इंसान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की बेटी इवांका ट्रम्प की भी प्रेरणा बन गयी|

कल शाम अपने अधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर इवांका ने ज्योति के बारे में पोस्ट करते हुए उसकी तारीफ की है| वो ज्योति को भारतीय साइकिलिंग फेडरेशन द्वारा दिए ऑफर के खबर को शेयर करते हुए लिखी, “15 साल की ज्योति कुमारी ने अपने जख्मी पिता को साइकिल से सात दिनों में 1,200 किमी दूरी तय करके अपने गांव ले गई| सहनशक्ति और प्यार की इस वीरगाथा ने भारतीय लोगों और साइकलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया का ध्यान अपनी ओर खींचा है|”

ज्ञात हो कि भारतीय साइकिलिंग फेडरेशन भी ज्योति के इस कारनामें से आश्चर्यचकित है| फेडरेशन ने ज्योति को अगले महीने ट्रायल के लिए दिल्ली बुलाया है| फेडरेशन के चेयरमैन ओंकार सिंह ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि अगर आठवी क्लास की छात्रा ज्योति यह ट्रायल पास कर लेती है तो आईजीआई सपोर्ट काम्प्लेक्स में स्थित स्टेट-ऑफ़-द-आर्ट नेशनल साइकिलिंग अकैडमी में ट्रेनी के रूप में चयनित हो जाएगी|

फेडरेशन के चेयरमैन ओंकार सिंह ने कहा था, “हमने आज सुबह लड़की से बात की और हमने उसे बताया कि उसे अगले महीने दिल्ली बुलाया जाएगा जब लॉकडाउन खत्म हो जाएगी। उसकी यात्रा, ठहरने और अन्य खर्चों का सारा खर्च हमारे द्वारा उठाया जाएगा। इस खबर को विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें| 

ज्योति को अखिलेश यादव देंगें एक लाख की मदद

ज्योति के इस कारनामें ने देश लेकर विदेशों तक में लोगों का ध्यान अपनी तरफ खिंचा है| साइकिलिंग फेडरेशन ने ज्योति के मदद की घोषणा तो की ही है| इसके साथ यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव भी ज्योति को एक लाख रूपये का राशि देने की घोषणा की है|

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने ट्वीट किया है, ‘सरकार से हारकर एक 15 वर्षीय लड़की निकल पड़ी अपने घायल पिता को लेकर सैकड़ों मील के सफ़र पर. दिल्ली से दरभंगा. आज देश की हर नारी और हम सब उनके साथ हैं. हम उनके साहस का अभिनंदन करते हुए उन तक 1 लाख रुपये की मदद पहुंचाएंगे|”


यह भी पढ़ें: अंग्रेजों की धरती पर अपनी मातृभाषा हिन्दी की ज्योत जला रही है बिहार की यह बेटी


Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: