सरस्वती की साधना में बिहार ने खुद को खपाया, ऐसी धरती को प्रणाम: प्रधानमंत्री मोदी

 पटना यूनिवर्सिटी के शताब्दी समारोह में हिस्सा लेने पहुंचे पीएम मोदी ने देश के विश्वविद्यालयों को लेकर एक बड़ी घोषणा की है। इस दौरान उन्होंने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए नीतीश कुमार की भी जमकर तारीफ की।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हम केंद्रीय विश्वविद्यालय से आगे की सोच रहे। भारत सरकार एक ऐसी योजना लाई है जिसके तहत देश के 10 सरकारी और 10 निजी विश्वविद्यालयों को वर्ल्ड क्लास बनाया जाएगा। इसके लिए पूरी प्रक्रिया राजनीतिक हस्तक्षेप से दूर होगी और प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्ठ 10 सरकारी और 10 निजी विश्वविद्यालयों को सरकार 10 हजार करोड़ की सहायता देकर वैश्विक स्तर का बनाएगी।

इसके बाद मोदी ने कहा कि हिंदुस्तान जवान है और उसके सपने भी जवान हैं, पहले हम सांप से खेलते थे और अब ‘माउस’ से खेलते हैं। पटना यूनिवर्सिटी का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि हर राज्य में सिविल सर्विस के ज्यादातर सीनियर अधिकारी वहीं के होते हैं।
मोदी ने कहा कि बिहार के पास सरस्वती की कृपा है, लेकिन अब वक्त बदल गया है और अब लक्ष्मी की कृपा की भी जरूरत है। मोदी ने बिहार की तारीफ करते हुए कहा कि राज्य के पास ज्ञान और गंगा दोनों है। मैं मां सरस्वती और लक्ष्मी दोनों को साथ-साथ चला रहा हूं। बिहार के पास सरस्वती की कृपा है। बिहार पर लक्ष्मी की कृपा भी हो सकती है। इसमें केंद्र पूरी तरह प्रदेश सरकार का सहयोग करेगा। पीएम मोदी ने आगे कहा कि बिहार को 2022 तक समृद्ध राज्य बनाना है।

दिमाग को खाली करने और खोलने की जरूरत
कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कहा कि दिमाग को खाली करने की जरूरत है। देश की यूनिवर्सिटी को टीचिंग नहीं बल्कि लर्निंग प्रॉसेस पर ध्यान देने की जरूरत है। हमारी यूनिवर्सिटी में दिमाग खोलने और खाली करने का अभियान चलाया जाना चाहिए। तभी देश आगे बढ़ेगा। हमारी यूनिवर्सिटी में आने वाले हर नए विद्यार्थी के लिए चुनौती है कि पुराना सीखकर जो आए हैं उसे कैसे भुलाएं।

स्टार्टअप में भारत चौथे नंबर पर
पीएम मोदी ने आगे कहा कि आने वाले युग की आवश्यकता की पूर्ति के लिए इनोवेशन पर ध्यान देना जरूरी है। मैं देश की सभी यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स और फैकल्टी से आवाहन करना चाहता हूं कि हमारे आसपास जो समस्या देखते हैं उसके समाधान के लिए इनोवेटिव और सस्ती टेक्नॉलजी ढूंढिए। इनोवेशन यानी नवाचार हर युग के लिए महत्वपूर्ण है। छोटे- छोटे इनोवेशन स्टार्टअप के रूप में हमारे देश को आगे ले जाएंगे। अभी स्टार्टअप में भारत चौथे नंबर का देश है। मोदी ने कहा कि दुनिया के वही देश आगे बढ़ते हैं जो नई सोच को बढ़ावा देते हैं। पीएम मोदी ने कहा कि भविष्य को देखते हुए संसाधन के बारे में सोचना समय की मांग है।


अब मेरा देश माउस से खेलता है
एक घटना का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं कुछ समय पहले ताइवान गया था। तब मैं सीएम नहीं था। वहां मेरे साथ एक इंटरप्रेटर रखा गया था। 10 दिन का टूर था तो रोजाना बातचीत के दौरान दोस्ती हो गई। एक दिन उसने मुझसे पूछा कि क्या हिंदुस्तान अब भी वैसा ही है सांप सपेरे वाला, मैंने कहा तब मेरा देश सांप से खेलता था अब माउस से खेलता है। वह समझ गया कि मैं टेक्नॉलजी की बात कर रहा हूं और खुश हुआ।

इस मौके पर नीतीश ने कहा कि प्रधानमंत्री के पटना आने से उन्हें बेहद खुशी है। सीएम ने पटना यूनिवर्सिटी का दर्जा बढ़ाकर केंद्रीय विश्वविद्यालय करने की भी मांग की।

 

 

Search Article

Your Emotions

    %d bloggers like this: