received_927028714107363
पर्यटन स्थल

देश के सभी देवी शक्ति पीठों में बिहार स्थिति इस प्रसिद्ध मंदिर का अपना एक अलग ही महत्व है

शैलेश कुमार|| देश के सभी देवी शक्ति पीठों में बड़हिया स्थित सिद्ध मंगलापीठ मां बाला त्रिपुर सुंदरी जगदंबा मंदिर का अपना एक अलग ही स्थान है। संभवत: बिहार का इकलौता 151 फीट संगमरमर युक्त इस पौराणिक मंदिर कीदिव्यता व भव्यता के बीच मिट्टी की पिंड स्वरूप मां बाला त्रिपुर सुंदरी विराजमान हैं। मान्यता है कि जो […]

Maa MahaGauri - 22
खबरें बिहार की

नवरात्रि की अष्टमी तिथि को माँ महागौरी की आराधना होती है

नवरात्रि की अष्टमी तिथि को माँ महागौरी की आराधना होती है| नाम से प्रकट है कि इनका रूप पूर्णतः गौर वर्ण है। इनकी उपमा शंख, चंद्र और कुंद के फूल से दी गई है। अष्टवर्षा भवेद् गौरी यानी इनकी आयु आठ साल की मानी गई है। इनके सभी आभूषण और वस्त्र सफेद हैं। इसीलिए उन्हें […]

navratri-day-3-chandraghanta-maa-puja
पर्यटन स्थल राष्ट्रीय खबर

नवरात्रि की तृतीया तिथि को माँ दुर्गा के तीसरे रुप माँ चंद्रघंटा की पूजा होती है

नवरात्रि की तृतीया तिथि को माँ दुर्गा के तीसरे रूप अर्थात् माँ चंद्रघंटा की पूजा होती है| इस देवी की कृपा से साधक को अलौकिक वस्तुओं के दर्शन होते हैं। दिव्य सुगंधियों का अनुभव होता है और कई तरह की ध्वनियां सुनाई देने लगती हैं। देवी के मस्तक पर घंटे के आकार का आधा चंद्र […]

DJH Íæßð ×¢çÎÚU ÂçÚUâÚU ·¤æ ÖÃØ »ðÅU
आपना लेख पर्यटन स्थल

बिहार पर्यटन: कमाख्या से खुद चलकर थावे पहुंची थीं माँ दुर्गा !

गोपालगंज: वैसे तो बिहार में धार्मिक यात्राओं पर आने वाले या छुट्टियां मनाने आने वाले लोगों के लिए यहां कई धार्मिक और पौराणिक स्थल हैं, लेकिन यहां आने वाले लोग गोपालगंज जिले में स्थित थावे मंदिर में जाकर सिंहासिनी भवानी मां के दरबार का दर्शन कर उनका आर्शीवाद लेना नहीं भूलते. मान्यता है कि यहां […]

13239932_1757960804438250_3781144387874599241_n
पर्यटन स्थल

पटन देवी मंदिर : सबकी मनोकामना पूरी करती है माँ पटनेश्वरी!

  बिहार: पाटन देवी मंदिर पटना में सबसे पवित्र मंदिरों में से एक है। यह मंदिर देवी दुर्गा का निवास स्थान माना जाता है।  बिहार की राजधानी पटना में स्थित पटन देवी मंदिर शक्ति उपासना का प्रमुख केंद्र माना जाता है. देवी भागवत और तंत्र चूड़ामणि के अनुसार, सती की दाहिनी जांघ यहीं गिरी थी. नवरात्र […]