खबरें बिहार की राजनीति संपादकीय

बिहार गरीब है मगर यहां के नेता अमीर हैं !

राजनीति में धनबल हमेशा अमिट स्थान रखता है और पैसे वाले अक्सर चुनाव आसानी से जीत जाते हैं। ये सदा से होता आया है पर जब किसी क्षेत्र विशेष के नेताओं की संपत्ति नेताओं के राष्ट्रीय औसत से भी ऊपर हो पर वो क्षेत्र गरीबी और ‘पर कैपिटा इनकम’ के रास्ट्रीय औसत से बहुत नीचे […]

Aapna Bihar Exclusive बिहारी विशेषता राष्ट्रीय खबर संपादकीय

तुम्हें बिहारी कहलाने में शर्म है, बिहार तुमसे शर्मिंदा है

  बिहारी होना है पहचान विनम्र, श्रमी होने का, अध्यवसायी, ईमानदार, तेजोदीप्त विक्रमी होने का | बिहारी तो है इक भावना, सबको अपनाने का, बिहारी बुद्ध की वीणा है, प्रेम गीत गाने का || फिर क्यों आज बना है बिहारी ‘शर्म’ का पर्याय, ‘साला बिहारी’ कैसे हो गया, हम कैसे समझायें| आज उन्हें प्रत्युत्तर देता, […]

Aapna Bihar Exclusive राष्ट्रीय खबर संपादकीय

विश्लेषण: दूसरे राज्य में जाना बुरी बात नहीं, किन्तु यह हमारा चयन होना चाहिए, न कि हमारी मजबूरी

  हे बिहार, कहो तो आज क्या तुम वही गौरवशाली बिहार हो ! हे देवभूमि, कहाँ खो गई तुम्हारी वह उज्जवल धवल कीर्ति कहो ? क्या अब भी आशावान हो कि वे दिन तुम्हारे लौटकर फिर आएंगे ? चन्द्रगुप्त-सम अब संतान तेरी है भी क्या, स्वर्णिम समय तेरा तुझे दिखलाएंगे !   हमारे बिहार को […]

संपादकीय

बिहार का भोज जिसमें पानी परोसने के लिए बच्चों में तो जूठे पत्तल उठाने के लिए बड़ों में होड़ मचती है।

भोज, हकार और बीजे, ये तीन शब्द हमारे गाँव में होने वाले भोज से संबंधित है। भोज मतलब पार्टी। ज़मीन पर बैठना, केले के पत्तल पर खाना और अपने घर से ले गए लोटे या गिलास से पानी पीना, ये तीन इस भोज की खासियत होती है। ऐसे भोज चंद हलवाई और ग्रामीण के सहयोग […]

खबरें बिहार की पर्यटन स्थल बिहारी विशेषता मनोरंजन संपादकीय

अहले-सुबह उदय होते सूर्य की आराधना के साथ चैती छठ पूजा सम्पन्न

​छठ महापर्व की महत्ता और छठी मइया की महिमा पर लोगों की आस्था इस चैती छठ में पुनः देखने को मिली। छठपर्व के पहले और दुसरे अर्घ के सफलतापूर्वक संपन्न होने की सूचना है। डूबते सूर्य की आराधना के साथ यह चार दिवसीय अनूठा महापर्व अपने चरम पर था। अहले-सुबह उदय होते सूर्य की आराधना […]

मत बदनाम करो बिहार को राष्ट्रीय खबर संपादकीय

बुड़बक बिहारी बेवकूफ बनता है, खुद का मजाक उड़ता देखकर बत्तीसी दिखाता है 

क्या बॉलीवुड बिहार से नफ़रत करता है? सवाल बेहद अटपटा लग सकता है लेकिन सच्चाई तो यही लगती है। दरअसल अभी हाल में दो फ़िल्में बिहार पर बनी है। एक रिलीज हो गयी, दूसरी होने वाली है। चेतन भगत की लिखी किताब हाफ गर्लफ्रेंड पर बनी फिल्म में ये दिखाया गया है कि बिहारी को […]

संपादकीय

इसलिए खास है होली बिहार की

​यूं तो बिहार में बड़े ही धूमधाम से हर त्‍योहार मनाया जाता है, मगर होली की बात ही कुछ और है। रंगों के इस त्‍योहार को लेकर लोगों का उत्‍साह देखते बनता है। बिहार में होली का अपना एक अलग ही अंदाज है। और ऐसी मान्यता है की रंगों के इस त्योहार की परंपरा बिहार […]

संपादकीय

कानून का एक सच्चा सिपाही उम्मीदों के शहर से अधूरी ख्वाहिश लेकर विदा हो गया!

पिछले 12 वर्षों से टीवी पत्रकारिता के पेशे से जुड़ा हूँ। जिले से लेकर राजधानी तक का एक छोटा सा सफर तय कर लिया जिस दौरान कई अनुभवों के साथ खट्टी मीठी यादें भी जुड़ गयी। एक अध्याय आईपीएस शिवदीप लांडे से भी जुड़ा है जिनके अंदाज से भले ही अपराधी और माफिया खौफजदा होते […]

संपादकीय

इस दिवाली अपने प्रधानमंत्री जी ने की है एक शानदार पहल, जान आपका भी सीना हो जायेगा 56 इंच का

हर साल , हर विशेष पर्व त्यौहार को बड़े ही खुशनुमा कर देते हैं माननीय प्रधानमंत्री मोदी जी ! कुछ न कुछ ऐसा कर गुजरते ही की देश की तमाम जनता का दिल जीत लेते हैं और वहीँ राजनीतिक प्रतिद्वंदी को भी स्तब्ध कर देते हैं ! 2014 – पहला साल दिवाली का ! सबसे […]

संपादकीय

आवाहन / अनुरोध / विनीति : चाइनीज सामान का करे पूर्ण बहिष्कार

दोस्तों ! देश बड़े ही नाजुक दौर से  गुजर  रहा है , पडोसी को हमारी तरक्की, भाईचारा , शांति , उपलब्धि से इष्या हो  रही है ! भारत सबसे तेजी से उभरता हुआ देश है ऐसा हम नहीं हर तरफ के सर्वे कह रहा है ! हमें रोकने के लिए , अशांति फैलाना सबसे  अहम् […]

खबरें बिहार की राष्ट्रीय खबर संपादकीय

भोजपुरी भाषा भारत के इतिहास का पसीना और बिहारीपन की आत्मा है

जहाँ एक तरफ भोजपुरी भाषा को सम्मान दिलाने के लिए लोग संघर्ष कर रहें हैं और भोजपुरी को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल करने की बात की जा रही है तो वहीं आरा के विर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय में इस भाषा की पढाई पर रोक लगा दी गई है।  इस फैसले के खिलाफ भोजपुरी भाषी […]

आपना लेख खबरें बिहार की मनोरंजन संपादकीय

भोजपुरी सिर्फ अश्लिलता का पैमाना नही है, हमारी माँ भी है..

  मुकुंद वर्मा फ़िल्में तो आप जरुर देखते होंगे. जी मैं भी देखता हूँ. भला ऐसा कौन होगा जो हमारे देश में सिनेमा नही देखता होगा. हिन्दुस्तान में सिनेमा सिर्फ एक एंटरटेनमेंट का साधन नही है, बल्कि हमारी संस्कृति का एक अभिन्न अंग भी है. मैं हिन्दी और अंग्रेजी की फिल्में तो देखता ही हूँ, […]

Aapna Bihar Exclusive आपना लेख संपादकीय

क्या देश के लिए शहीद जवान पहले सैनिक था या नीचे जात वाला??

  हाँ तो तुम क्या कह रहे थे, की तुम ऊँची जाती के हो? ह्म्म्मम्म. अच्छा, ठीक है ये बताओ, की ये ऊँची जाती होने का सर्टिफिकेट कहाँ से लिया. हाँ मतलब किसने कहा की फलाना जाती ऊँची रहेगी और फलाना जाती नीची रहेगी. हाँ बताओ ज़रा? अब बकलोल जैसा मेरा मुँह मत ताको, जवाब […]

आपना लेख संपादकीय

मेरी छोटी बहन रूबी, जेल तो हमें जाना चाहिये..

मेरी छोटी बहन रूबी, ये चिट्ठी मैं तुम्हारे नाम लिख रहा हूँ. तुम मुझे जानती नही हो, लेकिन सारे रिश्ते क्या खून के ही होते हैं. कभी-कभी कुछ रिश्ते ऐसे ही बन जाते हैं, बनाने नही पड़ते. पहली बार तुम्हारा इंटरव्यू देखा था टीवी पर, जब तुम अपने सब्जेक्ट्स के नाम सही से नही बता […]