राजनीति संपादकीय

जानिए आखिर क्यों नीतीश कुमार को कॉग्रेस का अध्यक्ष बनाने की बात हो रही है ?

इतिहासकार जब वर्तमान को अपने नजरिये से देखता है तो उसके साथ इतिहास के पन्ने तथ्यों के रूप में मौजूद होते हैं. अतीत गवाह बनकर साथ खड़ा होता है. अतीत और वर्तमान की तुलना कर इतिहासकार अपना नजरिया सामने रखता है. जाने माने इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने कांग्रेस को मौजूदा संकट से उबारने के लिये […]

संपादकीय

10 करोड़ के बड़ी आबादी वाले बिहार में अस्पतालों का पुख्ता ईलाज जरूरी

  वर्तमान विकासशील समाज के कुशल निर्माण में अस्पतालों का सुदृढ़ होना अतिआवश्यक है। बिहार में आज के आधुनिकीकरण के दौर में भी सरकारी अस्पतालों की हालत सुधरी नही है। सरकारी अस्पतालों की चिकित्सा व्यवस्था संतोषजनक नहीं मानी जा सकती। इसे पटरी पर लाने के लिए प्राथमिकता के आधार पर प्रयास किया जाना चाहिए।   […]

Aapna Bihar Exclusive Education संपादकीय

सबसे बड़ा सवाल: बिहार के शिक्षक, क्यों है भिक्षक ?

  क्यों हैं बिहार के शिक्षक सहमे, क्यों शिक्षा यहाँ सिसकती है ? क्यूँ सहता आरोप बिहार यह, डिग्रीयाँ यहाँ पर बिकती है ? क्यों बिहार बदनाम हुआ है, शर्मसार सरेआम हुआ है ? क्यों हल्ला चहुँ ओर मचा है, मानो बिहार निष्प्राण हुआ है ? ऊंगली उठी है शिक्षक पर, ऊंगली उठी व्यवस्था पर, […]

Education संपादकीय

बिहार के शिक्षा व्यवस्था का असल दोषी रूबी, गणेश है या सरकार ?

बिहार के ‘टॉपर्स’ का खूब मजाक उड़ाया जा रहा है. सोशल मीडिया और मेन स्ट्रीम मीडिया तक इनकी परतें उधेड़ रहा है. दरअसल मीडिया के लिये इस व्यवस्था का माखौल उड़ाने का इससे असमान्य मौका और क्या हो सकता है. टॉपर से सवाल जवाब कर उसे ‘बिहारी’ साबित करने में मीडिया को अद्भुद आनंद आ […]

संपादकीय

Bihar Board Result: बिहार बोर्ड के विद्यार्थियों की व्यथा-कथा

  (कुछ भी कहने से पूर्व यह बात स्पष्ट कर दूं कि इस लेख का उद्देश्य किसी अयोग्य छात्र का पक्ष लेना नहीं है और न ही किसी शिक्षा-व्यवस्था की आलोचना करना है I इसका मूल उद्देश्य बिहार बोर्ड के सामान्य छात्रों की मनोदशा का परिचय देना है और साथ ही हिंदी पट्टी के कुछ […]

Aapna Bihar Exclusive खबरें बिहार की संपादकीय

#Justice4Nancy: छुटकी नैंसी बहना हम सब तेरे अपराधी हैं

छुटकी बहना : हम सब तेरे अपराधी भारत की इक बेटी थी, बिहार की वह बिटिया थी । किन्तु दिल वह मिथिला की, वह नन्हीं सी चिड़ियाँ थी ।। नैंसी नाम तो उसका था, इक शिक्षक की मुनिया थी । उसकी मासूम सी आँखों को, अभी देखनी सारी दुनिया थी ।। कुछ हिजड़ों की आँखों […]

खबरें बिहार की राजनीति संपादकीय

बिहार गरीब है मगर यहां के नेता अमीर हैं !

राजनीति में धनबल हमेशा अमिट स्थान रखता है और पैसे वाले अक्सर चुनाव आसानी से जीत जाते हैं। ये सदा से होता आया है पर जब किसी क्षेत्र विशेष के नेताओं की संपत्ति नेताओं के राष्ट्रीय औसत से भी ऊपर हो पर वो क्षेत्र गरीबी और ‘पर कैपिटा इनकम’ के रास्ट्रीय औसत से बहुत नीचे […]

Aapna Bihar Exclusive बिहारी विशेषता राष्ट्रीय खबर संपादकीय

तुम्हें बिहारी कहलाने में शर्म है, बिहार तुमसे शर्मिंदा है

  बिहारी होना है पहचान विनम्र, श्रमी होने का, अध्यवसायी, ईमानदार, तेजोदीप्त विक्रमी होने का | बिहारी तो है इक भावना, सबको अपनाने का, बिहारी बुद्ध की वीणा है, प्रेम गीत गाने का || फिर क्यों आज बना है बिहारी ‘शर्म’ का पर्याय, ‘साला बिहारी’ कैसे हो गया, हम कैसे समझायें| आज उन्हें प्रत्युत्तर देता, […]

Aapna Bihar Exclusive राष्ट्रीय खबर संपादकीय

विश्लेषण: दूसरे राज्य में जाना बुरी बात नहीं, किन्तु यह हमारा चयन होना चाहिए, न कि हमारी मजबूरी

  हे बिहार, कहो तो आज क्या तुम वही गौरवशाली बिहार हो ! हे देवभूमि, कहाँ खो गई तुम्हारी वह उज्जवल धवल कीर्ति कहो ? क्या अब भी आशावान हो कि वे दिन तुम्हारे लौटकर फिर आएंगे ? चन्द्रगुप्त-सम अब संतान तेरी है भी क्या, स्वर्णिम समय तेरा तुझे दिखलाएंगे !   हमारे बिहार को […]

संपादकीय

बिहार का भोज जिसमें पानी परोसने के लिए बच्चों में तो जूठे पत्तल उठाने के लिए बड़ों में होड़ मचती है।

भोज, हकार और बीजे, ये तीन शब्द हमारे गाँव में होने वाले भोज से संबंधित है। भोज मतलब पार्टी। ज़मीन पर बैठना, केले के पत्तल पर खाना और अपने घर से ले गए लोटे या गिलास से पानी पीना, ये तीन इस भोज की खासियत होती है। ऐसे भोज चंद हलवाई और ग्रामीण के सहयोग […]

खबरें बिहार की पर्यटन स्थल बिहारी विशेषता मनोरंजन संपादकीय

अहले-सुबह उदय होते सूर्य की आराधना के साथ चैती छठ पूजा सम्पन्न

​छठ महापर्व की महत्ता और छठी मइया की महिमा पर लोगों की आस्था इस चैती छठ में पुनः देखने को मिली। छठपर्व के पहले और दुसरे अर्घ के सफलतापूर्वक संपन्न होने की सूचना है। डूबते सूर्य की आराधना के साथ यह चार दिवसीय अनूठा महापर्व अपने चरम पर था। अहले-सुबह उदय होते सूर्य की आराधना […]

मत बदनाम करो बिहार को राष्ट्रीय खबर संपादकीय

बुड़बक बिहारी बेवकूफ बनता है, खुद का मजाक उड़ता देखकर बत्तीसी दिखाता है 

क्या बॉलीवुड बिहार से नफ़रत करता है? सवाल बेहद अटपटा लग सकता है लेकिन सच्चाई तो यही लगती है। दरअसल अभी हाल में दो फ़िल्में बिहार पर बनी है। एक रिलीज हो गयी, दूसरी होने वाली है। चेतन भगत की लिखी किताब हाफ गर्लफ्रेंड पर बनी फिल्म में ये दिखाया गया है कि बिहारी को […]

संपादकीय

इसलिए खास है होली बिहार की

​यूं तो बिहार में बड़े ही धूमधाम से हर त्‍योहार मनाया जाता है, मगर होली की बात ही कुछ और है। रंगों के इस त्‍योहार को लेकर लोगों का उत्‍साह देखते बनता है। बिहार में होली का अपना एक अलग ही अंदाज है। और ऐसी मान्यता है की रंगों के इस त्योहार की परंपरा बिहार […]

संपादकीय

कानून का एक सच्चा सिपाही उम्मीदों के शहर से अधूरी ख्वाहिश लेकर विदा हो गया!

पिछले 12 वर्षों से टीवी पत्रकारिता के पेशे से जुड़ा हूँ। जिले से लेकर राजधानी तक का एक छोटा सा सफर तय कर लिया जिस दौरान कई अनुभवों के साथ खट्टी मीठी यादें भी जुड़ गयी। एक अध्याय आईपीएस शिवदीप लांडे से भी जुड़ा है जिनके अंदाज से भले ही अपराधी और माफिया खौफजदा होते […]

संपादकीय

इस दिवाली अपने प्रधानमंत्री जी ने की है एक शानदार पहल, जान आपका भी सीना हो जायेगा 56 इंच का

हर साल , हर विशेष पर्व त्यौहार को बड़े ही खुशनुमा कर देते हैं माननीय प्रधानमंत्री मोदी जी ! कुछ न कुछ ऐसा कर गुजरते ही की देश की तमाम जनता का दिल जीत लेते हैं और वहीँ राजनीतिक प्रतिद्वंदी को भी स्तब्ध कर देते हैं ! 2014 – पहला साल दिवाली का ! सबसे […]

संपादकीय

आवाहन / अनुरोध / विनीति : चाइनीज सामान का करे पूर्ण बहिष्कार

दोस्तों ! देश बड़े ही नाजुक दौर से  गुजर  रहा है , पडोसी को हमारी तरक्की, भाईचारा , शांति , उपलब्धि से इष्या हो  रही है ! भारत सबसे तेजी से उभरता हुआ देश है ऐसा हम नहीं हर तरफ के सर्वे कह रहा है ! हमें रोकने के लिए , अशांति फैलाना सबसे  अहम् […]