Trending in Bihar

Latest Stories

इन बिहारियों के असाधारण और विशिष्‍ट सेवा के लिए मिला पद्म पुरस्कार

जगतंत्र दिवस के अवसर पर ग्रह मंत्रालय ने इस वर्ष पद्म सम्मान के विजेताओं के नामों की घोषणा की. पद्म पुरस्कार देश में दिए जाने वाले  सर्वोच्च नागरिक पुरस्कारों में से एक है जो किसी व्यक्ति विशेष को  किसी भी क्षेत्र में असाधारण और विशिष्‍ट सेवा के लिए प्रदान किए जाते है. इस साल 4 पद्म विभूषण, 14  पद्म भूषण और 94 पद्म श्री दिए जाएंगे और हर साल की तरह ही इस बार भी बिहार के नायक अपना नाम इस सूची में दर्ज कराने में कामयाब हुए हैं.

किसानो को समर्पित किया पुरस्कार 

Image result for hukum dev

बीजेपी सांसद हुकुमदेव नारायण यादव इस साल पद्म भूषण से सम्मानित किए जाएंगे. उन्होंने अपना ये पुरस्कार गरीबों और भारत के किसानों को समर्पित करने का ऐलान किया है. हुकुमदेव बिहार के मधुबनी चुनाव क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं.

मनोज बाजपेयी को भी मिला सम्मान

Image result for मनोज बाजपेयी

बॉलीवुड जगत का बड़ा चेहरा और बिहार के लाल मनोज बाजपेयी को इस वर्ष पद्म श्री सम्मान से नवाज़ा जाएगा. उन्होंने पुरस्कार मिलने कि ख़ुशी जताई एवं जनता और उन सभी को धन्यवाद कहा जिन्होंने उनपर विश्वास किया और उनके करियर में उनका साथ दिया. मनोज बाजपेयी  बॉलीवुड में अपनी अदाकारी के लिए जाने जाते हैं. उन्होंने २५ साल के अपने सफर में सरदार खान (गैंग्स ऑफ़ वास्सेपुर), भीकू महात्रे (सत्या), अलीगढ मूवी  में समलैंगिक प्रोफेसर जैसे कई यादगार रोल निभाए हैं. मनोज सरकार द्वारा नेशनल फिल्म अवार्ड से सम्मानित किए जा चुके हैं.

साईकिल चाची हुई पद्म श्री से सम्मानित

94 में से चार पद्म श्री पुरस्कार बिहार के नाम रहे. मुजफ्फरपुर की ‘साइकिल चाची’ आनंदपुर गांव की राजकुमारी देवी को पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा. शादी के नौ वर्ष तक संतान नहीं होने और पति की बेरोजगारी के कारण उन्हें समाज से बहिष्कृत कर दिया गया था. तब उन्होंने साइकिल उठाई और जगह- जगह जा-जाकर अचार व मुरब्बा बेचना शुरू किया और महज डेढ़ सौ रुपये से शुरू किया गया कारोबार बढ़ता गया.

स्वीपर का काम करने से शुरू किया सफर

Related image

इस सूची में अगला नाम बिहार विधान सभा की सदस्या भागीरथी देवी का है. अपने शुरुआती दिनों में भागीरथी देवी नरकटियागंज में स्वीपर का काम किया करती थी. उन्होंने बिहार में महिला सशक्तिकरण और दलितों के लिए निस्सवार्थ काम किया है. उन्हें भी पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा.

मधुबनी कला को मिली पहचान

Image result for विजेता गोदावरी दत्ता
मिथिला कलाकारी में माहिर और पद्म श्री विजेता गोदावरी दत्ता खुश हैं की सरकार कला और संस्कृति को बढ़ावा दे रही है. उन्होंने कहा, “मै खुश हूँ कि मुझे इस सम्मान के योग्य समझा गया. पहले मधुबनी पेंटिंग की उतनी ख्याति नहीं थी जितनी अब है.अब ऐसे बहुत से लोग हैं जो मधुबनी की सरहाना करते हैं और इस कला को सीखना चाहते हैं.”

मूसाहार समुदाय के लिए किया काम

Image result for padma shree j.k sinha

रॉ एजेंट रह चुके ज्योति कुमार सिन्हा को भी इस साल पद्म श्री सम्मान के लिए चुना गया है. उन्हें ये पुरस्कार बिहार में शिक्षा को बढ़ावा देने में उनके योगदान के लिए दिया जा रहा है. सिन्हा ने 2005 में बिहार में शोषित सेवा संघ की शुरुआत की जिसका मकसद मूसाहार समुदाय के बच्चों को शिक्षा का लाभ पहुँचाना था.

Search Article

Your Emotions

    Leave a Comment

    %d bloggers like this: