Instagram Slider

Latest Stories

Featured Articles
BQhdufh
aapna bihar is one of the best & trusted portal of bihar.good luck.

Featured Articles
BQhdufh
aapna bihar is one of the best & trusted portal of bihar.good luck.

ये है बिहार का सबसे ऊंचा दुर्गा मंदिर, नेपाल से भी पूजा करने आते हैं भक्त

मधुबनी(गुंजन कुमार): बिहार के मधुबनी जिले के सीमावर्ती क्षेत्र जयनगर में भारत- नेपाल सीमा से लगभग तीन किमी की दूरी पर मां दुर्गे की ये भव्य एवं सुंदर मंदिर स्थापित है। इस मंदिर की विधिवत् शुरुआत 2001 में पुरी पीठ के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती ने पूजा-अर्चना के साथ किया था। इस मंदिर के बन जाने से जयनगर की धार्मिक महिमा और लोकप्रियता काफी बढ़ गयी। मंदिर की ऊंचाई 118 फीट है। संपूर्ण मिथिला क्षेत्र में इसकी काफी ख्याति है। दशहरा के अलावा अन्य दिनों में भी दूर-दूर से लोग आते हैं। इस मंदिर की वजह से धार्मिक पर्यटन और व्यापार में बढ़ोतरी हुई है। बिहार में सबसे ऊंचा दुर्गा मंदिर के नाम से यह मंदिर जाना जाता है। शक्तिपीठ से विख्यात मां दुर्गे की यह मंदिर श्रद्धालुओं के लिए आस्था का केंद्र है। बिहार के सामान्य ज्ञान की पुस्तकों में भी इसकी चर्चा होती है।

  • नेपाल से भी पूजा करने आ रहे भक्त…
कलश स्थापना के साथ ही नौ दिनों तक चलने वाली चैती दुर्गा पूजा प्रारंभ हो गई है। शहर से लगा हुआ बस्ती पंचायत स्थित पौराणिक एवं ऐतिहासिक दुर्गा मंदिर का मनमोहक दृश्य, श्रद्धालुओं को अपनी ओर आकर्षित कर रहा है। भक्तों की मुरादें पूरी करने वाली इस मंदिर में विधि विधान के साथ कलश स्थापना की जाती है। गुरुवार को मां दुर्गे की प्रथम रूप शैलपुत्री की पूजा होनी है। जय अंबे एवं जयमाता दी की जय-जयकार से पूरा वातावरण भक्तिमय में तबदील हो गया है। नेपाल समेत सूबे के विभिन्न क्षेत्रों से मां दुर्गे की दर्शन एवं पूजा अर्चना हेतु श्रद्धालु मंदिर प्रांगण में पहुंच रहे हैं।
  • प्रतिदिन होती है पूजा-अर्चना एवं आरती 

नवरात्र में शाम में होने वाली महाआरती श्रद्धालुओं के लिए आकर्षक का केंद्र बना है। दूर दराज से श्रद्धालु यहां आकर महाआरती में शामिल होते हैं। बच्चे बूढ़े जवान सभी हाथ जोड़े मां की आराधना में मग्न हुए डूबे रहते हैं। वैसे तो इस मंदिर में प्रतिदिन सुबह शाम विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना एवं आरती की जाती है, लेकिन नवरात्र की महाआरती श्रद्धालुओं के लिए विशेष होता है। सब की मुरादें पूरी करने वाली मां दुर्गे की मंदिर में बारह मास शादी ब्याह, मुंडन, संस्कार एवं धार्मिक अनुष्ठान होते रहते हैं। साल में दो बार मां दुर्गा की भव्य पूजा की जाती है। आसिन एवं चैती दुर्गा पूजा सदियों से होती रही है। मां की पट खुलते ही मंदिर प्रांगण में छागरों की बली दी जाती है। हजारों की संख्या में छागर की बली चढ़ाई जाती है।

 
  • शंकराचार्य ने कराई थी प्राण प्रतिष्ठा 

3 जून 2004 को पूज्य पाद्य गोबर्धन पीठाधीश्वर स्वामी निश्चलानन्द सरस्वती महाराज ने मंदिर के गर्व गृह में मां दुर्गे, मां सरस्वती, मां काली, मां लक्ष्मी, गणेश, मां काली समेत अन्य देवी-देवताओं की प्रतिमाओं का प्राण प्रतिष्ठा वैदिक मंत्रोचारण के साथ विधि विधान के साथ किया था। इससे पूर्व प्राकृतिक खर, मिट्टी, भूसा से कुशल कारिगरों के द्वारा प्रतिमा का निर्माण करायी जाती थी। प्राकृतिक शुद्धिकरण का ख्याल से मंदिर कमेटी ने मंदिर में संगमरमर की प्रतिमा का प्राण प्रतिष्ठा करने का निर्णय लिया। मां दुर्गे के पास अक्सर कबूतर बैठी होती हैं, जिन्हें दर्शन कर श्रद्धालु धन्य हो जाते हैं।

Facebook Comments

Search Article

Leave a Comment

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: