fea803199ff5b122743c87ef75520308-1
खबरें बिहार की मनोरंजन

प्रकाश पर्व फिल्म महोत्सव में सीख-संदेश दे रही हैं फिल्में

दशमेश गुरु के प्रकाशोत्सव के साथ ही प्रदर्शनों का भी रंग जम चुका है। श्रद्धा-भक्ति के साथ ही राग-रंग का भी माहौल है। यह माहौल सांस्कृतिक कार्यक्रमों से बना है। इस कड़ी में मंगलवार को प्रकाश-पर्व फिल्म महोत्सव की शुरुआत हुई। पहले दिन चित्र-पट पर गुरुओं की गाथा और सिखों की जीवटता का प्रदर्शन हुआ। भाव-विभोर करने के साथ ही इन फिल्मों ने श्रद्धालुओं और दर्शकों में आत्मबल का संचार किया।

dsc_0065

सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन कला-संस्कृति व युवा विभाग द्वारा कराया जा रहा। फिल्म महोत्सव की जिम्मेदारी राज्य फिल्म विकास एवं वित्त निगम को मिली ही। शुभारंभ चैंबर ऑफ कामर्स के सभागार में हुआ। प्रथम दर्शक विभागीय मंत्री शिवचंद्र राम ने कहा कि सिनेमा के जरिए दिखाई जा रही गुरु साहिब की शिक्षा और सिख समुदाय की खूबियां समाज में सकारात्मक ऊर्जा भरेंगी।

फिल्म प्रदर्शन के पूर्व निगम के प्रबंध निदेशक गंगा कुमार ने कहा कि यह महोत्सव प्रकाश पर्व के उत्साह में बिहार पधारे सिख संगतों को घर का अहसास देगा।उन्होंने कहा कि महोत्सव का मुख्य उद्देश्य सिख धर्म की शिक्षा को फिल्म महोत्सव के माध्यम से प्रदर्शित करना है।फिल्मों के चयन में लोकरुचि के साथ धर्म और संस्कृति की गरिमा का भी ध्यान रखा गया है।

ये फिल्में दिखाई गई:-
पहले सत्र में धर्म-बोध: महोत्सव की शुरुआत 1969 में बनी पंजाबी फिल्म ‘नानक नाम जहाज’ से हुई। राम माहेश्वरी द्वारा निर्देशित यह फिल्म सर्वश्रेष्ठ पंजाबी फिल्म के साथ सर्वश्रेष्ठ संगीत के लिए भी राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से सम्मानित हो चुकी है। 2015 में यह फिल्म दोबारा रिलीज की गई थी। फिल्म के मुख्य किरदारों को पर्दे पर पृथ्वी राज कपूर, आइएस जोहर, विम्मी और निशि ने उतारा।

दूसरे सत्र में जीवटता :
दूसरे सत्र में हैरी बावेजा की चर्चित एनीमेशन फिल्म ‘चार साहिबजादे’ और मनमोहन सिंह की ‘मेरा पिंड’ दिखाई गई। ‘मेरा पिंड’ में हरभजन मान, किमी वर्मा के साथ नवजोत सिंह सिद्धू मुख्य भूमिका में हैं। सिद्धू ने एक एनआरआइ की भूमिका निभाई है, जो घर लौटकर अपनी उद्यमिता और युवाओं के सहयोग से गाव की तस्वीर बदल देता है। रोचक अंदाज में यह फिल्म सिखों के संघर्ष और उनके जीवट को प्रदर्शित करती है।

आज प्रदर्शित होने वाली फिल्में :
बुधवार को ‘फ्लाइंग जट’, ‘अरदास’ और ‘वारिश शाह-इश्क दी वारिस’ दिखाई जाएगी। ‘वारिश शाह’ पंजाबी की श्रेष्ठ फिल्मों में शुमार है। जूही चावला, गुरदास मान और दिव्या दत्ता अभिनीत इस फिल्म को विभिन्न श्रेणियों में चार नेशनल अवार्ड मिल चुके हैं।

इस दौरान कला, संस्‍कृति एवं युवा विभाग, बिहार के अपर सचिव आनंद कुमार, फिल्‍म समीक्षक विनोद अनुपम और मीडिया प्रभारी रंजन सिन्‍हा के अलावा कई गणमान्‍य अतिथि भी उपस्थित रहे।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.