Instagram Slider

Latest Stories

Featured Articles
BQhdufh
aapna bihar is one of the best & trusted portal of bihar.good luck.

Featured Articles
BQhdufh
aapna bihar is one of the best & trusted portal of bihar.good luck.

भोजपुरी में अच्छी स्क्रिप्ट पर फ़िल्म बनाये तो हर फिल्म 100 करोड़ से ऊपर पहुंच सकती है!

पटना के रीजेंट और रविन्द्र भवन में ही रहे पटना फिल्म फेस्टिवल में बुधवार को रविन्द्र भवन में भोजपुरी एक्ट्रेस तेजल चौधरी शिरकत की। तेजल चौधरी महाराष्ट्र की निवासी है जो मराठी के कई फिल्म में काम कर चुकी है। अभी तेजल भोजपुरी फिल्म की शूटिंग कर रही है। तेजल चौधरी ने परिचर्चा में कहा कि सबसे पहले मैं बिहार की पावन धरती को प्रणाम करती हूँ। तेजल पटना फिल्म फेस्टिवल का हिस्सा बनने के लिए फिल्म एवं वित्त निगम के एमडी गंगा कुमार को शुक्रिया अदा की।

Film festival

तेजल ने भोजपुरी फिल्म पर टिप्पणी करते हुए कहा कि हर चीज के दो पहलू होते है एक नेगेटिव और एक पोस्टिव आप किस श्रेय से देखते है आप पर डिपेंड करता है। मराठी में बनी सैराड भोजपुरी में भी बन सकती है। अगर हम भोजपुरी में अच्छी स्क्रिप्ट और फ़िल्म बनाये तो हर फिल्म 100 करोड़ से ऊपर पहुंच सकती है। मौके पर फिल्म एवं वित्त निगम के एमडी गंगा कुमार, डायरेक्टर अभिलाष सिंह, अवधेश प्रीत, फिल्म विशेषज्ञ राहुल कपूर, रंजन जी आदि मौजूद थे।

https://youtube.com/watch?feature=youtu.be&v=s4esc8tt7wo

 

वही रीजेन्ट में हो रहे पटना फिल्म फेस्टिवल में फिल्म हैदर, फोर्स – 2 और मोहनजोदारो जैसी फिल्मों में अपनी छाप छोड़ चुके मधुबनी निवासी नरेन्द्र झा मौजूद रहे।

नरेन्द्र झा ने कहा कि बिहार विविधताओं का प्रदेश है। फिल्म क्षेत्र में भी वही बात है। हिन्दी, मगही, भोजपुरी मैथिली और अंगिका इतनी भाषाओं में फिल्में बन रही है कि वह एक जगह नहीं ले पा रही है। जरूरत है सबको एक साथ चलने की। हम एक साथ चलेंगे, तब ही हमारा विकास होगा। उन्होंने बिहार की प्रशंसा करते हुए कहा कि यहां से हर साल हर क्षेत्र में टॉपर्स निकलते हैं। हमें इसे प्रचारित करना चाहिए। बिहार को प्रचारित करने के लिए बिहार का नाम ही काफी है। हमारी मिट्टी में एक अलग ही खास बात है।

Patna film festival
बिहार में फिल्मों का विकास बड़े स्तर पर होगा। बिहार में इतनी कहानियां है जिस पर फिल्म बने तो इंटरनेशनल लेवल पर जाएंगी। बस जरूरत है सबको इकट्ठा होकर काम करने की। एकजुट होकर विचार करने की। इसकी शुरुआत फिल्म फेस्टिवल से हो गई है।

Facebook Comments

Search Article

Leave a Comment

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: