एक बिहारी सब पर भारी खबरें बिहार की मनोरंजन

Pff: पटना फिल्म फेस्टिवल में मनोज वाजपेयी को मिला पहला बिहार रत्न सम्मान

9 दिसंबर से शुरू पटना फिल्म फेस्टिवल 2016 का समापन आज पद्म विभूषण डॉ सोनल मानसिंह के परफॉर्मेंस के साथ हो गया। इसमें हिन्दी के साथ भोजपुरी, मैथली, मगही और अंगिका का प्रदर्शन किया गया। पटना रविन्द्र भवन में आयोजित समापन समारोह में बिहार राज्य फिल्म विकास एवं वित्त निगम लिमिटेड व कला, संस्कृति और युवा विभाग की तरफ से पहला बिहार रत्न सम्मान पुरस्कार शुरू किया गया। पटना फिल्म एवं वित्त निगम की तरफ से इसके लिए अभिनेता मनोज वाजपेयी को यह सम्मान मिला।

Pff
इस मौके पर मनोज वाजपेयी ने कहा कि मनोरंजन सिर्फ नाच गाना नहीं होता, मनोरंजन अच्छी कहानी और अच्छी फिल्मेंं भी होती है। दो दशकों से हम ये लड़ाई लड़ रहे हैं। पिछले दिनों किसी ने मेरी फिल्म बुधिया सिंह और अलीगढ को मनोरंजक नहीं कहा। तब मुझे लगा कि मुझे अपनी लड़ाई और लड़नी है। ये फिल्में बच्चों के विकास में बाधक नहीं हैं। इन फिल्मों को देख कर बच्चे अपने भविष्य को सवार सकते हैं। बाधा तो वो फिल्मे हैं, जो बच्चों को समाज से अलग करता है। उन्होंने कहा कि थियेटर करने की चाहत में पढ़ायी के बहाने पटना छोड़े 30 साल हो गए। इस दौरान यहां कोई ऐसा बड़ा आयोजन होते नहीं देखा था। पटना में कोई सांस्कृतिक कार्यक्रम करना मुश्किल होता था और काफी मशक्कत करनी पड़ती थी। लेकिन पटना फिल्म फेस्टिवल के इतने बड़े आयोजन को देख कर गर्व महसूस हो रहा है। फिल्म फेस्टिवल दर्शकों से, समाज से, फिल्मकारों के समाज से संवाद स्थापित करने का एक कारगर साधन है। फिल्मों को लेकर छोटे शहरों सिनेमा के प्रति नजरिया बदला है, वो काफी सराहनीय है। इसलिए मैंने बड़े शहरों की और देखना बंद कर दिया है।

Pff

 

समापन समारोह के दौरान पद्म विभूषण डॉ सोनल मानसिंह ने कहा कि बिहार सांस्कृतिक रूप से फिर से उभर कर सामने आ रहा है। बिहार से मेरे पुराने संबंध रहे हैं। मैं 20 साल बाद यहां अपनी प्रस्तुति दे रही हूं। बिहार राज्य फिल्म विकास एवं वित्त निगम के एमडी गंगा कुमार का ने एक अनूठा प्रयोग किया है, जो सराहनीय है। अमूमन फिल्म महोत्सव के समापन सत्र फिल्मोंं के नृत्य से संपन्न होता है, लेकिन यहां समापन मेरे नृत्य से हो रहा है। उन्होंने बिहार राज्य फिल्म विकास एवं वित्त निगम लिमिटेड को ध्यान आकृष्ट कराते हुए कहा कि बिहार बोध सर्किट में आता है। अगर यहां एक बुद्धिस्टि फिल्म फेस्टिवल का भी आयोजन होता, तो ये राज्य और पर्यटन के लिहाज से भी हितकारी होगा।

अभिनेत्री सारिका ने भी फिल्म फेस्टिवल की सराहना की और कहा कि ऐसे आयोजन लगातार होते रहने चाहिए। इससे पहले बिहार राज्य फिल्म विकास एवं वित्त निगम लिमिटेड गंगा कुमार ने कार्यक्रम में आए अतिथियों को फूल गुच्छ, शॉल और मोमेंटे देकर सम्मानित किया। समापन समारोह में साहित्यकार उषा किरण खान, वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकार त्रिपुरारी शरण, अभिनेत्री व पटना फिल्म फेस्टिवल में ज्यूरी हेड सारिका, ज्यूरी मेंबर फरीदा मेहता व परेश आमदार,पूर्व आईएएस आरएन दास, बिहार राज्य फिल्म विकास एवं वित्त निगम की विशेष कार्य पदाधिकारी शांति व्रत भट्टाचार्य, अभिनेता विनीत कुमार, फिल्म समीक्षक विनोद अनुपम, फिल्म फेस्टिवल के संयोजक कुमार रविकांत, मीडिया प्रभारी रंजन सिन्हा आदि उपस्थित रहे।

Pff

वहीं, समापन समारोह के दौरान फिल्म विकास के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए स्व अशोकचंद जैन, मोहनजी प्रसाद, राकेश पांडेय, विशुद्धानंद, कुणाल सिंह, विजय खरे, किरण कांत वर्मा, सुनील प्रसाद, जीतेन्द्र सुमन, अभय सिंह, प्रेमलता मिश्रा और कुणाल बैकुंढ़ सिंह को निगम के एमडी श्री गंगा कुमार द्वारा सम्मानित किया गया। इसके अलावा फिल्म फेस्टिवल के दौरान आयोजित फिल्म क्रिटिक प्रतियोगिता में पहले स्थान पर पटना कॉलेज की छात्रा तसलीम फातिमा, दूसरेे स्थान पर पटना कॉलेज के ही उज्जवल कुमार और तीसरे स्थान पर संत जेवियर्स कॉलेज ऑफ मैंनेजमेंट, पटना के रविरंजन रहे। वहीं, बख्यितयारपुर कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, पटना की नेहा कुमारी चौथे और संत जेवियर्स कॉलेज ऑफ मैंनेजमेंट अस्मित नंद ने पांचवां स्थान हासिल किया।
बता दें कि पटना फिल्म फेस्टिवल 2016 में कंपीटिशन और आईएफएफआई पैनोरमा की कुल 20 फिल्मों का प्रदर्शन रीजेंट सिनेमा में हुआ, जबकि रविंद्र भवन के हॉल एक में भोजपुरी की 14, मैथिली की तीन, मगही और अंगिका की एक – एक फिल्मों का प्रदर्शन हुआ। इसके अलावा छह डॉक्यूमेंट्री और 21 शॉट फिल्में रविंद्र भवन के हॉल दो में दिखाई गई। पटना फिल्म फेस्टिवल 2016 में खासतौर पर विभिन्न विषयों पर परिचर्चा का भी आयोजन किया गया। इसमें बॉलीवुड और भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री की जानी मानी हस्तियों ने शिरकत किया।

इन्हें मिला अवार्ड:-

Best Short Film – Days Of Autumn

Best Documentary – Sax in the City

Special Jury Award (Documentary) – Juitiya

Best Actor (Feature Film) – Moksha Hunter (Film – Head Hunter)

Best Actress (Feature Film) – Urmila Mahanta (Film – Bokul)

Best Director (Feature Film) – Manish Mitra (Film– Le Lotta)

Best Feature Film – Le Lotta,

Special Jury Award – Juitiya

Special Jury Award For Ensemble Cast – Le Lotta

Best Scriptwriter (Feature Film)-
1. Ripak Das
2. Nayanita Sen Datta 3.Nilanjan Datta (Film- Head Hunter)

Facebook Comments
Share This Unique Story Of Bihar with Your Friends

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.