picsart_11-03-02-29-47
खबरें बिहार की

नालंदा के एसपी ने किया ऐसा काम ताकि गरीब और असमर्थ महिलाएं भी खुशी से मना सके महापर्व छठ

नालंदा : पूरे बिहार में छठ पूजा की तैयारी चल रहीं है। सारदा सिन्हा के छठ गीत की आवाज चारों तरफ से सुनाई दे रही है। सभी लोग अपने स्तर से महापर्व छठ की तैयारी कर रहा है।
छठ महापर्व को लेकर नालंदा जिले के मुरौराडी गांव में नालंदा पुलिस, रोटरी क्लब और मोर्निंग वाल्क टीम के संयुक्त प्रयास से छठ व्रत करने वाली 300 गरीब महिलाओ के बीच एसपी कुमार आशीष एवं उनकी पत्नी श्रीमती देव्यानी ने प्रसाद सामग्री का वितरण अपने हाथों से किया।
एसपी कुमार आशीष ने छठ व्रती महिलाओ के बीच सुप,डलिया,कद्दू,नारंगी,केला,सेब,नारियल का वितरण किया।

img-20161103-wa0009

छठ व्रतियों को प्रसाद सामग्री वितरण समारोह को संबोधित करते हुए एसपी कुमार आशीष ने कहा की नालंदा जिले के बड़गांव सूर्यमंदिर एवं ओंगारी में छठ व्रत धूमधाम से पूरे विधि-विधान पूर्वक महिलाये एवं पुरुष करते है। कार्तिक मास में प्रतिवर्ष सूर्योदय के पहले स्नानं-ध्यान करके सूर्यदेव की अर्चना की जाती है।इसके लिए तीन दिन पहले से ही तैयारी शुरू हो जाती है। ब्रती लोग चतुर्थी के दिन पहला ब्रत जिसे “खरना” बोलते हैं, शुरू करते हैं इसदिन पूरे दिन ब्रत रखते हैं और शाम को पूजा-अर्चना करने के बाद सादा भोजन बिना नमक का करते हैं।पंचमी के दिन पूरा दिन बिना अन्न-जल ग्रहण किए शाम के समय सूर्यास्त होते हुए सूर्य को किसी तालाब में कमर तक पानी में खड़े होकर अर्घ्य देते हैं।उसके दूसरे दिन सुबह समाज के सभी प्रबुद्ध वर्गों के लोग शामिल होकर सूर्योदय का इंतजार करते हैं। सुबह जैसे ही सूर्य की अरुणिम किरण झलकती है सभी ब्रती नदी, झील या तालाब में कमर तक पानी में खड़े होकर अर्घ्य देते हैं ब्रती के तीन दिन के ब्रत का समापन होता है।इस पूजा के जनक महाराज जनक की धरती से शुरू हुई थी जो कि आज पूरे विश्व में मनायी जाती है।

गौरतलब है कि Morning walk team of Rotary क्लब के द्वारा छठ व्रतियों के बीच प्रसाद सामग्री वितरण हर वर्ष करती है।इस बार भी 300 गरीब परिवारों के बीच प्रसाद सामग्री का वितरण किया। डॉ अरविंद सहित कई गणमान्य लोगो ने छठ व्रत करने वाली महिलाओ के बीच प्रसाद सामग्री का वितरण किया।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.