11624044
खबरें बिहार की बिहारी विशेषता

बिहार के इस डीएम को सलाम, लाचार विधवा महिला को इस तरह दिलाया न्याय

dm of aurangabad

औरंगाबाद: बिहार के औरंगाबाद के डीएम ने ऐसा काम किया है जिसकी चारों तरफ प्रसंशा की जा रही है। महिला रसोइए को विधवा बताकर एक स्कूल के हेडमास्टर ने उसे स्कूल से बाहर कर दिया। इसकी शिकायत मिलते ही डीएम कंवल तनुज मौके पर पहुंचे। पूरे मामले की जांच की और विधवा से खाना बनवाकर पूरे गांव के सामने खाया। डीएम ने हेडमास्टर को दोषी करार देते हुए सस्पेंड कर दिया और FIR दर्ज करने का आदेश भी दिया।

 

मामला बिहार के औरंगाबाद जिले के रफीगंज प्रखंड के बटुरा मीडिल स्कूल का है। स्कूल की रसोइया उर्मिला देवी को हेडमास्टर शिव गोविंद प्रसाद ने 2013 में पति की मौत बाद अछूत मानते हुए रसोइया की नौकरी से हटा दिया था। उसकी जगह पर उसी गांव के रामकेवल यादव को बतौर रसोइया बहाल कर दिया। हेडमास्टर ने यह सब बिना शिक्षा समिति की बैठक या विभागीय जानकारी दिए बगैर ही कर दिया गया। नौकरी जाने के बाद महिला सालों तक गिड़गिड़ाती रही, लेकिन हेडमास्टर सुनने को तैयार नहीं थे। इसके बाद उसने ब्लॉक ऑफिस का चक्कर लगाया, लेकिन इससे भी कोई फायदा नहीं हुआ।

widow of aurangabad

डीएम के पास गई तो जांच करने खुद पहुंच गए
थक-हार कर महिला सोमवार को अपनी फरियाद लेकर डीएम के पास पहुंची। डीएम ने मामले को गंभीरता से लिया और तत्काल खुद जांच करने स्कूल पहुंच गए। यहां स्कूल की रसोइया पंजी, एमडीएम पंजी और चखना रजिस्टर की जांच की। इसमें कई गड़बड़ियां सामने आईं।
डीएम ने जब सवाल किया तो हेडमास्टर नहीं दे पाए जवाब
इस मामले में हेडमास्टर ने दलील दी कि उक्त रसोइया लगातार काम पर नहीं आ रही थी, जिसके कारण उसे निकाल दिया। डीएम ने जब उससे सवाल किया कि इसकी अनुमति क्या विभागीय स्तर पर ली गई तो हेडमास्टर के पास कोई जवाब नहीं था। डीएम ने विधवा रसोइया को बहाल करने का निर्देश देते हुए उससे खाना बनवाया और पूरे गांव के बच्चों के साथ बैठकर खाया। डीएम के आदेश के बाद आरोपी हेडमास्टर को सस्पेंड कर दिया गया।

 

इस काम के लिए इस डीएम का जितना भी तारिफ किया जाये कम है।  समाज में गंदी और ऐसी नीच सोच रखने वाले लोगों को डीएम ने आईना दिखा दिया और लाचार विधवा महिला को न्याय दिला सबके लिए मिशाल कायम करने का काम किया है।

 

डीएम कंवल तनुज ने कहा कि महिला का आरोप आज के समाज में बिल्कुल निंदनीय है। मामले की जांच के बाद आगे की कार्रवाई की गई है। विधवा रसोइया को फिर से बहाल कर दिया गया है। वहीं, दोषी हेडमास्टर के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई की गई है।

 

 

 

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.