सऊदी में फंसे बिहार के 50 युवक, न खाने को रोटी और न ही रहनेको छत है

19_06_2016-siwan_youths

सिवान: अपना और आने वाली पीढ़ी का भविष्य बदलने का सपना आंखों में सजाए विदेश गए सिवान के 50 युवक सऊदी आरब में जलालत की जिंदगी जी रहे हैं। उन्हें न खाने को दो समय का रोटी नसीब हो रहा है और न ही रहने को कोई छत।  वे पाँच महिने से साऊदी अरब के दम्माम स्थित एक कंपनी में बुरी तरह फसें है।  

 

वे जिस कम्पनी में काम करते थे, उन्होंने काम करवा कर उनको वेतन नहीं दिया।  पास में इतने पैसे नहीं की अपने देश लौट सके।  दिन पर दिन उनकी हालत खराब होती जा रही है।  यहाँ उनके घर वाले बेचैन है और दर-दर मदद को गुहार लगा रहे हैं।  खबर मिलने पर सिवान के सांसद ओमप्रकाश यादव ने मदद करने का भरोसा दिया है और कहा है जल्द ही उनके परिवारवालों से पूरी जानकारी ले उनकी बात भारत के विदेश मंत्रालय तक पहुंचाई जाएगी और उनके वतन वापसी का इंतजाम किया जाएगा।

 

दम्माम स्थित साद ग्रुप में कारपेंटर की नौकरी करने वाले जीबी नगर के डिहियां दीनदयालपुर निवासी मो. शमशाद ने शनिवार को सऊदी से फोन कर बताया कि उसके साथ जिले के 50 से अधिक युवक हैं। खाने तक के पैसे नहीं हैं। कंपनी के बेहाल कर्मचारियों ने सऊदी लेबर कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। 16 जून को फैसला आना था, लेकिन फिर कंपनी को मोहलत दे दी गई है।

 

शमशाद ने बताया कि कंपनी में राजस्थान, दिल्ली, यूपी आदि राज्यों के सैकड़ों युवक हैं। सिर्फ एक बार शाम को भोजन दिया जा रहा है। रात मेंं खुले आसमान के नीचे रहने को वे लोग मजबूर हैं।

 

कई लोग बिमार है मगर इलाज को पैसे नहीं

सिवान जिले के बड़हरिया, तरवारा, मैरवा के कई युवक बीमार भी चल रहे हैं।  बीमारों में हंसराज कुशवाहा, जितेन्द्र यादव, रामअवतार, सुरेन्द्रनाथ चौरसिया, अमरजीत प्रसाद शामिल हैं। इलाज कराने के लिए उनके पास पैसे नहीं है तो वहां की साऊदी सरकार भी उनकी कोई मदद नहीं कर रही। उन लोगों ने सरकार से भी मदद की गुहार लगा चुके हैं। जीबी नगर तरवारा के चाड़ी बाजार के ग्यासुद्दीन अंसारी कहते है वहां की सरकार से उनका विश्वास उठ चुका है।

 

 

मो. शमशाद ने सऊदी में फंसे सिवान के युवकों की सूची भी भेजी है। इन युवकों में पचरुखी के गम्हरिया के अवधेश कुमार, दारौंदा के सद्दाम, हरिहांस के रिजवान अहमद, पचरुखी रसुलपुर के ऐनुल अंसारी, गोरेयाकोठी के मो. जलील अंसारी, हसनपुरा के फरियाद अहमद, लहेजी के इनायत हुसैन, लहेजी के ही संजय कुमार, नौतन के मैनुद्दीन खान, जीरादेई के नन्हे हुसैन, मोहद्दीपुर के मो. निजामुद्दीन, ओरमा के अली इमाम, धनौती के बाबू हुसैन आदि शामिल है।

 

उनके खबर सुनते ही यहां खर वाले उनके सलामती के लिए भगवान से प्राथना कर रहें हैं तो रमजान के महीने में वे अपने परिजन की खैरियत के साथ उनके शीघ्र लौटने की दुआएं भी कर रहे हैं। उनकों उम्मीद है कि वे घर जल्द लौटेंगे।

 

 

हाल ही में ऐसे मामलों में भारतीय विदेश मंत्रालय ने जैसी सक्रियता दिखाई है, उससे उनके जल्द वतन वापसी की उम्मीद बढ़ गई है।  विदेश मंत्री सुषमा स्वाराज ने सोशल मिडिया से भी ऐसे मामले का संज्ञान ले कई लोगों की मदद कर मिशाल कायम किया है।  उम्मीद है की इन लोगों की बात भी उनके पास तक पहुंचेगी।  कृपया इसे शेयर कर उनकी मदद करें।

 

Facebook Comments

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.

top